Global Statistics

All countries
594,330,695
Confirmed
Updated on August 13, 2022 1:24 pm
All countries
564,606,076
Recovered
Updated on August 13, 2022 1:24 pm
All countries
6,452,428
Deaths
Updated on August 13, 2022 1:24 pm

Global Statistics

All countries
594,330,695
Confirmed
Updated on August 13, 2022 1:24 pm
All countries
564,606,076
Recovered
Updated on August 13, 2022 1:24 pm
All countries
6,452,428
Deaths
Updated on August 13, 2022 1:24 pm

Amarnath Yatra 2022: घर बैठे पाएं बाबा अमरनाथ का आशीर्वाद, इस विधि से करें पूजा, पूरी होगी मनोकामनाएं

- Advertisement -
- Advertisement -

Amarnath Yatra 2022: पवित्र गुफा में बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए 30 जून से अमरनाथ यात्रा शुरू हो गई है। यह यात्रा रक्षाबंधन के दिन 11 अगस्त को समाप्त होगी। यह एक धार्मिक मान्यता है कि बाबा बर्फानी के हिम शिवलिंग के दर्शन से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार अमरनाथ की गुफा वह स्थान है जहां भगवान भोलेनाथ ने माता पार्वती को अमरता का रहस्य बताया था। बाबा अमरनाथ की यात्रा (Amarnath Yatra) काफी कठिन है। पवित्र गुफा तक पहुंचने के लिए भक्तों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जिसके कारण कुछ लोग बाबा बर्फानी के दर्शन कर पाते हैं। ऐसे में अगर आप भी अमरनाथ यात्रा पर नहीं जा पा रहे हैं तो इसके लिए निराश होने की जरूरत नहीं है। घर में विधिपूर्वक बाबा अमरनाथ की पूजा करने से आप आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। बाबा बर्फानी आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण करेंगे। आइए जानते हैं पूजा की विधि…

Amarnath Yatra
Amarnath Yatra

बाबा अमरनाथ की पूजा विधि

बाबा अमरनाथ की पूजा करने के लिए सबसे पहले सुबह स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहन लें। इसके बाद पूजा स्थल की सफाई करें। उसके बाद वहां बाबा अमरनाथ के पवित्र हिम शिवलिंग का चित्र स्थापित करें।

अगर आपके पास बाबा अमरनाथ की तस्वीर नहीं है, तो चिंता न करें। आप पूजा के लिए भगवान शिव और माता पार्वती की तस्वीर स्थापित कर सकते हैं।

अब बाबा बर्फानी का स्मरण कर फूल, अक्षत, बेलपत्र, चंदन, धूप, दीपक, सुगंध, शक्कर आदि चढ़ाएं। साथ ही इस दौरान शिव पंचाक्षर मंत्र ‘ओम नम: शिवाय’ का जाप करते रहें।

बाबा अमरनाथ की आरती घी के दीपक से करें। आप चाहें तो कपूर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके बाद शिव चालीसा, पार्वती चालीसा और बाबा अमरनाथ की कथा का पाठ करें।

पूजा समाप्त होने के बाद बाबा अमरनाथ या अमरेश्वर शिवलिंग का ध्यान करें और उनसे अपनी इच्छा व्यक्त करें और अपनी गलतियों के लिए क्षमा मांगें। ईश्वर की कृपा से आपकी मनोकामना पूर्ण होगी।

यह भी पढ़ें – Janmashtami 2022 Date: कब है जन्माष्टमी? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

यह भी पढ़ें – Guru Purnima 2022: कब है गुरु पूर्णिमा? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles