Global Statistics

All countries
199,098,370
Confirmed
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
177,982,097
Recovered
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
4,242,952
Deaths
Updated on 02/08/2021 4:37 PM

Global Statistics

All countries
199,098,370
Confirmed
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
177,982,097
Recovered
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
4,242,952
Deaths
Updated on 02/08/2021 4:37 PM

केजरीवाल पर हमला: ऑक्सीजन और दवा तो पहुंचा नहीं सके, हर घर अन्न क्या पहुचाएंगे

आज केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने केजरीवाल (Kejriwal) सरकार की महत्वकांक्षी योजना घर-घर राशन को लेकर दिल्ली सरकार पर जमकर हमला बोला है। रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार राशन माफिया के नियंत्रण में है।

प्रेसवार्ता में रविशंकर प्रसाद ने कहा की हर घर अन्न की बात अरविंद केजरीवाल (Kejriwal) स कर रहे है। ऑक्सीजन पहुंचा नहीं सके, मोहल्ला क्लीनिक से दवा तो पहुंचा नहीं सके। घर अन्न भी एक जुमला है। राशन माफिया के नियंत्रण में दिल्ली सरकार है। दो रुपये प्रति किलो गेहूं, तीन रुपये प्रति किलो चावल सरकार देश भर में देती है।


पिछले साल की तरह इस बार भी नवंबर तक गरीबों को मुफ्त राशन प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत दिया जा रहा है।

उन्होंने आगे कहा 37 रुपये प्रति किलो चावल का खर्चा होता है। और गेहूं का 27 रुपये प्रति कि। इसमें भारत सरकार सालाना करीब 2 लाख करोड़ रुपये खर्च करती है।


दिल्ली सरकार केंद्र मंत्री ने केंद्र की वन नेशन वन राशन योजना का उल्लेख करते हुए पर हमला बोला। उन्होंने कहा की भारत सरकार द्वारा बहुत महत्वपूर्ण योजना वन नेशन, वन राशन कार्ड शुरू की गई है। वन नेशन, वन राशन कार्ड देश के 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में चल रही है। 28 करोड़ पोर्टेबल ट्रांजेक्शन अभी तक इस पर हुए हैं। यह स्कीम केंद्र शासित राज्य दिल्ली और पश्चिम बंगाल व आसाम को छोड़कर हर जगह लागू है।


उन्होंने पूछा की अरविंद केजरीवाल जी जवाब दें कि वन नेशन-वन राशन कार्ड लागू दिल्ली में क्यों नहीं हुआ? क्या दिक्कत और क्या परेशानी है वन नेशन-वन राशन कार्ड योजना से?


साथ ही यह सवाल किया की अप्रैल 2018 से अब तक पीओएस मशीन का ऑथेंटिकेशन दिल्ली की राशन की दुकानों में शुरू क्यों नहीं हुआ? एससी-एसटी वर्ग की चिंता अरविंद केजरीवाल (Kejriwal) स नहीं करते हैं। प्रवासी मजदूरों की चिंता व गरीबों की पात्रता की भी चिंता नहीं करते।

Leave a Reply

ताजा खबर

Related Articles

%d bloggers like this: