नवरात्रि के दिनों में बहुत ही चमत्कारी है वास्तु के ये टिप्स, बस घर में कर लें ये 10 बदलाव

- Advertisement -

चैत्र नवरात्रि 2022: चैत्र नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा के 9 रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि शुरू होने से पहले मां के आगमन के लिए घर में जोर-शोर से सफाई की जाती है। ताकि घर में मां का वास हो सके।

चैत्र नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा के 9 रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि शुरू होने से पहले मां के आगमन के लिए घर में जोर-शोर से सफाई की जाती है। ताकि घर में मां का वास हो सके। लेकिन इस दौरान अगर वास्तु के अनुसार कुछ बदलाव किए जाएं तो ये बेहद चमत्कारी साबित होते हैं। इससे घर में सुख-समृद्धि में लगातार वृद्धि होती रहती है।

नवरात्रि में करें ये वास्तु परिवर्तन

1. वास्तु के अनुसार देवताओं का वास ईशान कोण में होता है। इसलिए नवरात्रि में इस दिशा में मां दुर्गा की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है।

2. वास्तु विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अगर आप अखंड ज्योति जलाते हैं तो उसे आग्नेय कोष में रखें। अग्नि कोण को अग्नि तत्व का प्रतिनिधि माना जाता है। इससे घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है।

3. संध्या के समय पूजा स्थल पर घी का दीपक जलाएं। इससे घर के लोगों को हर जगह प्रसिद्धि मिलती है। इसलिए घर के मंदिर में भी रोशनी की व्यवस्था पूरी करनी चाहिए।

4. नवरात्रि में मां को चंदन की चौकी या पट पर स्थापित करने से वास्तु दोषों से मुक्ति मिलती है। चंदन को बहुत ही शुभ और सकारात्मक ऊर्जा का केंद्र माना जाता है।

5. नवरात्रि में पूजा करते समय उपासक का मुख उत्तर या पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। पूर्व शक्ति और वीरता का प्रतीक है। साथ ही इस दिशा के स्वामी सूर्य देव हैं। ऐसा करने से साधक की कीर्ति सर्वत्र प्रकाश की तरह फैल जाती है।

6. नवरात्रि में 9 देवियों को लाल वस्त्र, रोली, लाल चंदन, सिंदूर, लाल वस्त्र की साड़ी, लाल चुनरी आदि चढ़ाएं। पूजा स्थल के दरवाजों के दोनों ओर रोली या पूजा में इस्तेमाल होने वाली कुमकुम से स्वास्तिक बनाना शुभ माना जाता है।

7. वास्तु में लाल रंग को शक्ति का प्रतीक माना गया है। इसलिए मस्तक पर रोली या कुमकुम लगाएं।

8. नवरात्रि के 9 दिनों तक घर के बाहर चूने और हल्दी दोनों से स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं। इससे माता प्रसन्न होती है और साधक को सुख-शांति प्रदान करती है।

9. पूजा स्थल को साफ रखें।

10. नवरात्रि के दौरान मंदिर का सही दिशा में होना जरूरी है। जिससे आपको पूजा का पूरा लाभ मिल सके और माता की कृपा आप पर बनी रहे।

यह भी पढ़े – नवरात्रि के दौरान गलती से भी न करें ये काम, अन्यथा होगा अनिष्ट

यह भी पढ़े – चैत्र नवरात्रि 2022: 2 अप्रैल से शुरू हो रही है चैत्र नवरात्रि, मां दुर्गा की कृपा के लिए करें ये काम

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update