Global Statistics

All countries
591,537,034
Confirmed
Updated on August 10, 2022 8:14 pm
All countries
561,689,111
Recovered
Updated on August 10, 2022 8:14 pm
All countries
6,442,648
Deaths
Updated on August 10, 2022 8:14 pm

Global Statistics

All countries
591,537,034
Confirmed
Updated on August 10, 2022 8:14 pm
All countries
561,689,111
Recovered
Updated on August 10, 2022 8:14 pm
All countries
6,442,648
Deaths
Updated on August 10, 2022 8:14 pm

Chanakya Niti: बच्चों की इन आदतों का सदैव रखे ध्यान, अन्यथा झेलनी पड़ सकती है बड़ी मुसीबत

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य की गिनती भारत के महानतम विद्वानों में की जाती है। वे अपने समय के बहुत विद्वान व्यक्ति थे। उनके व्यक्तित्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने एक मामूली दिखने वाले लड़के को भारत का महान शासक बनाया था। अपने समय में उन्हें विष्णुगुप्त और कौटिल्य के नाम से जाना जाता था। उनके द्वारा लिखित अर्थशास्त्र पुस्तक आज के समय में भी प्रासंगिक है। आचार्य चाणक्य ने धर्म, समाज, राजनीति, अर्थव्यवस्था आदि विभिन्न विषयों पर अपने विचार खुलकर व्यक्त किए। अपनी बुद्धि के बल पर उन्होंने इतिहास की धारा ही बदल दी। चाणक्य ने माता-पिता को अपने बच्चों की देखभाल कैसे करनी चाहिए? इस विषय पर भी बहुत कुछ कहा। उन्होंने चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में बच्चों की उन आदतों का जिक्र किया था। जिन पर माता-पिता को हमेशा ध्यान देना चाहिए। आइए जानते हैं-

Chankya Niti | Chanakya Niti

 

कई बच्चे बहुत जिद्दी होते हैं। इस प्रकृति के बच्चे किसी की नहीं सुनते। यहां तक ​​कि वे अपने माता-पिता की आज्ञा का पालन भी नहीं करते हैं। अक्सर माता-पिता बच्चों की इन आदतों को शैतानी समझ कर नजरअंदाज कर देते हैं। आचार्य चाणक्य के अनुसार, इन परिस्थितियों में माता-पिता को अपने बच्चों से प्यार से बात करनी चाहिए।

आचार्य चाणक्य के अनुसार जो बच्चा बचपन में ही अपने माता-पिता से झूठ बोलने लगता है। ऐसे में माता-पिता को जल्द से जल्द अपने बच्चे को इस आदत से छुटकारा दिलाना चाहिए। उन्हें अपने बच्चों को प्यार से बताना चाहिए कि झूठ बोलना गलत है। नहीं तो ऐसे बच्चे बड़े होकर झूठ ज्यादा बोलने लगते हैं। जिससे आगे चलकर कई बड़ी समस्याओं का सामना उन्हें करना पड़ता है।

चाणक्य के अनुसार बच्चों को बचपन से ही हमारे महापुरुषों के बारे में बताना चाहिए। उनकी कहानियां बताई जानी चाहिए। इससे उन्हें अच्छे कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। उनके मन में सकारात्मक विचार आते हैं। वे अच्छे काम करने के लिए प्रोत्साहित होते है।

आचार्य चाणक्य कहते है कि बच्चों को कभी भी डांट-फटकार कर नहीं समझाना चाहिए। इससे वे जिद्दी हो जाते हैं। उनसे हमेशा प्यार से बात करें। इससे वे मामले को जल्दी समझ जाते हैं।

यह भी पढ़ें – Chanakya Niti: स्टूडेंट्स के लिए बहुत काम की हैं ये बातें, शिक्षा और करियर में मिलती हैं सफलता

यह भी पढ़ें – Chanakya Niti: अगर आप इन लोगों से झगड़े, तो आपको भविष्य में पड़ सकता है पछताना

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Hot Topics

Latest Articles