Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

Chanakya Niti: ऐसे लोग होते हैं दुश्मन से भी ज्यादा खतरनाक, जरूरत पड़ने पर भी न लें मदद

- Advertisement -

Chanakya Niti for Life: चाणक्य नीति प्राचीन भारत के महान रणनीतिकार, विद्वान, शिक्षक, सलाहकार और अर्थशास्त्री चाणक्य द्वारा लिखी गई थी। मौर्य वंश की सफलता के पीछे चाणक्य की कूटनीति थी। महान रणनीतिकार और अर्थशास्त्री चाणक्य ने अपनी नीतियों के बल पर नंद वंश को नष्ट कर दिया था और एक साधारण बच्चे चंद्रगुप्त मौर्य को अपनी नीतियों के कारण मगध का सम्राट बना दिया था। चाणक्य को न केवल राजनीति बल्कि समाज के हर विषय का भी गहरा ज्ञान और अंतर्दृष्टि थी। इसे बड़े पैमाने पर चाणक्य के सबसे महान कार्यों में से एक माना जाता है और आज भी कई महान शासकों, नेताओं और प्रसिद्ध हस्तियों द्वारा इसका पालन किया जाता है। चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में कई ऐसी बातें बताई गई हैं, जिनका पालन करने वाला व्यक्ति कभी निराश नहीं होगा। चाणक्य नीति के अनुसार मनुष्य को जीवन में अपने शत्रुओं की पहचान आनी चाहिए। हमारे आसपास कुछ ऐसे लोग होते हैं जो दुश्मन से भी ज्यादा खतरनाक होते हैं। आइए जानते हैं कौन हैं ऐसे लोग जिनसे दूरी बनाना जरूरी है।

किन लोगों से बनानी चाहिए दूरी

आचार्य चाणक्य ने एक श्लोक के माध्यम से जानकारी दी है कि जीवन में किन शत्रुओं से गलती से भी मदद नहीं लेनी चाहिए। श्लोक इस प्रकार है-

नैव पश्यति जन्मान्धः कामान्धो नैव पश्यति ।
मदोन्मत्ता न पश्यन्ति अर्थी दोषं न पश्यति ।।

अर्थ- जिस प्रकार जन्म से अंधा व्यक्ति कुछ भी नहीं देख सकता है, उसी प्रकार काम और क्रोध के नशे में धुत व्यक्ति को इसके अलावा कुछ नहीं दिखता। वहीं स्वार्थी व्यक्ति भी किसी में कोई दोष नहीं देखता है। उसके लिए सब समान हैं। इसलिए स्वार्थ में लिप्त व्यक्ति से कभी मित्रता नहीं करनी चाहिए।

क्रोधी व्यक्ति से दूर रहें

आचार्य चाणक्य के अनुसार, जो व्यक्ति क्रोधी होते है और कामी होते है या कह लीजिए काम और क्रोध के नशे में होते हैं, उनकी गलती से भी मदद नहीं लेनी चाहिए। ऐसे लोग अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए हमेशा दूसरों को नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसा करने से उन्हें खुशी मिलती है। ऐसे लोगों की दुश्मनी भी अच्छी नहीं होती।

ईर्ष्यालु लोगों से दूरी रहें

चाणक्य के नीति शास्त्र के अनुसार जो लोग दुष्ट और लालची होते हैं, वे दूसरों की प्रगति देखकर जलते हैं, इसलिए ऐसे लोगों की जीवन में किसी भी तरह की मदद नहीं लेनी चाहिए। ऐसे लोग ऊपर से जरूर दिखाएंगे कि वह आपकी मदद कर रही हैं लेकिन अंदर ही अंदर आपके काम को खराब करने का प्रयास करेंगे।

स्वार्थी व्यक्ति से दूरी बनाए रखें

चाणक्य नीति के अनुसार स्वार्थी व्यक्ति जीवन में अपने फायदे के अलावा और कुछ नहीं सोचता। और अपने स्वार्थ के लिए दूसरों को फंसा देते हैं। इसलिए इनसे दूर रहना ही बेहतर है। ऐसा व्यक्ति जीवन में कभी आपकी मदद नहीं करेगा, बल्कि केवल अपना लाभ ढूंढेगा।

यह भी पढ़ें – Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य के अनुसार पत्नी जीवन भर पति से छुपाती है ये 5 बातें

यह भी पढ़ें – Garud Puran: अगले जन्म में क्या बनेगे आप, जान सकते हैं इसी जन्म में

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles