Global Statistics

All countries
199,098,370
Confirmed
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
177,982,097
Recovered
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
4,242,952
Deaths
Updated on 02/08/2021 4:37 PM

Global Statistics

All countries
199,098,370
Confirmed
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
177,982,097
Recovered
Updated on 02/08/2021 4:37 PM
All countries
4,242,952
Deaths
Updated on 02/08/2021 4:37 PM

चाणक्य नीति: इन कारणो से माँ लक्ष्मी का घर में होता है आगमन, धन में होती है वृद्धि

चाणक्य नीति: इन कारणो से माँ लक्ष्मी का घर में होता है आगमन, धन में होती है वृद्धि

Chanakya Niti In Hindi: चाणक्य नीति की बाते जीवन के पहलुओं को बहुत ही करीब से स्पर्श करती हैं। नीतिशास्त्र में आचार्य चाणक्य ने जीवन से जुड़ी बहुत ही महत्वपूर्ण बातों का जिक्र किया है। इन बातों को अगर सही से समझा जाए व इनका अपने जीवन में अनुसरण किया जाए। तो जीवन को सरल, सुखमय व सफल बनाया जा सकता है। तो आइये जानते है इस बारे में क्या कहती है चाणक्य नीति —

धन लाभ जीवन में कैसे प्राप्त करें। इस संबंध में चाणक्य नीति में आचार्य ने चार महत्वपूर्ण बातो के बारे में बताया है। जो इस प्रकार है –

इस कारण घर में रुकता है पैसा

चाणक्य नीति के मुताबिक धन घर में तब आता है। जब मां लक्ष्मी के स्वागत के लिए घर का वातावरण तैयार हो। अर्थात उस घर में लक्ष्मी जी आगमन होता है। जहां शांति का वातावरण बना रहता है। ऐसे घर में माता वास करती हैं। प्रेमभाव जिस घर में परिजनों के बीच परस्पर बना रहता है। जिस घर में पति और पत्नी के मध्य प्यार बना रहता है। विवाद की स्थिति उत्पन नहीं होती है। ऐसी जगहों पर लक्ष्मी जी को रहना ज्यादा पसंद आता है। इससे घर में आर्थिक समृद्धि आती है।

इस कारण रूठ जाती है लक्ष्मी

चाणक्य नीति के मुताबिक घर की आर्थिक स्थिति के लिए लक्ष्मी का रूठना शुभ नहीं होता है। कहते हैं की भाषा जिस व्यक्ति की कठोर होती है। दूसरों के लिए कटु शब्दों का इस्तेमाल करता है। ऐसे व्यक्ति के घर माँ लक्ष्मी कभी वास नहीं करती है। कटु भाषा का इस्तेमाल करने वाले मनुष्यो को व्यापार के मामले में भी लाभ प्राप्त नहीं होता है। वही दूसरी और जिनकी वाणी सौम्य और मधुर होती है। ऐसे व्यक्ति के घर धन आता है। आर्थिक रूप से व्यक्ति संपन्न बनता है। इसलिए चाणक्य नीति कहती है की व्यक्ति को सभी के साथ प्रेम से बातचीत करना चाहिए। सदैव सौम्य भाषा का इस्तेमाल करना चाहिए।

सहकर्मियों के साथ बनाए रखें अच्छे संबंध

चाणक्य नीति के अनुसार आर्थिक लाभ तभी संभव है। जब व्यक्ति कार्यक्षेत्र में अपने सहकर्मियों का सम्मान करे। सहकर्मियों के साथ तालमेल बनाकर चले। अपने कार्यक्षेत्र में जो कर्मी ऐसा करता है। उनके अधिकारों की रक्षा और हितों का ख्याल शीर्ष अधिकारीगण रखते हैं। लक्ष्मी जी ऐसा भाव रखने वाले व्यक्तियों से प्रसन्न रहती है। और आर्शीवाद प्रदान करती हैं।

दान पुण्य करने से होती हैं प्रसन्न

दान-दक्षिणा जरूरतमंदों को देने से पुण्यफल की प्राप्ति होती है। चाणक्य नीति कहती है की दान-पुण्य के कार्यों को धनवान व्यक्ति को सदैव करते रहना चाहिए। इससे मां लक्ष्मी की कृपा उन पर हमेशा बनी रहती है। वहीं दूसरी ओर धनी व्यक्ति धन दौलत होने के बावजूद भी समाज कल्याण इत्यादि जैसो के कार्यों को नहीं करता है। शीघ्र ही ऐसे व्यक्तियों से लक्ष्मी रूठ जाती हैं। और फिर उसे आर्थिक नुकसान झेलना पड़ता हैं।

आचार्य चाणक्य के बारे में –

आचार्य चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। यह कौटिल्य या विष्णुगुप्त मौर्य नाम से भी विख्यात हैं। आचार्य चाणक्य आचार्य श्री चणक के शिष्य होने के कारण चाणक्य कहलाए। इन्हे चाणक्य नाम इनके गुरु आचार्य श्री चणक से ही प्राप्त हुआ था।

आचार्य चाणक्य कूटनीति, अर्थनीति, राजनीति व अपने महाज्ञान के सदुपयोग एवं जनकल्याण व अखंड भारत के निर्माण में सहयोग के कारण कौटिल्य’ ‘कहलाये। वास्तव में आचार्य चाणक्य एक सच्चे ब्राह्मण थे।

आचार्य चाणक्य का जन्म ईसा पूर्व 371 में हुआ था। जबकि ईसा.पूर्व. 283 में मृत्यु हुई थी। आचार्य चाणक्य का उल्लेख वायुपुराण, मत्स्यपुराण, विष्णुपुराण, मुद्राराक्षस, बृहत्कथाकोश, जैन पुराण, बौद्ध ग्रंथ महावंश आदि में मिलता है।

बृहत्कथाकोश के मुताबिक चाणक्य की पत्नी का नाम यशोमती था। वही मुद्राराक्षस के मुताबिक चाणक्य का असली नाम विष्णुगुप्त था।

आचार्य चाणक्य का नाम भारत के राजनीतिक इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में अंकित है। आचार्य चाणक्य न केवल एक कुशल राजनीतिज्ञ बल्कि शिक्षक, धर्माचार्य, लेखक और अर्थशास्त्री भी थे। कहते हैं कि चाणक्य ने ही वात्स्यायन नाम से कामसुत्र लिखी थी। चाणक्य के पिता ने ही उनका नाम कौटिल्य रखा था।

मगध के राजा द्वारा चाणक्य के पिता को राजद्रोह के अपराध में हत्या कर देने के बाद राज सैनिकों से बचने के लिए आचार्य ने अपना नाम बदलकर विष्णुगुप्त रख लिया था। तक्षशिला विद्यालय में विष्णुगु्प्त नाम से ही उन्होंने अपनी शिक्षा पूरी की।

‘कौटिल्य’ नाम से भी विख्यात आचार्य चाणक्य ने अर्थशास्त्र नामक महान ग्रंथ की रचना की। इनके द्वारा रचित अर्थशास्त्र’ एवं ‘नीतिशास्त्र’ नामक ग्रंथों की गणना विश्व की महान कृतियों में की जाती है।

आचार्य चाणक्य कुशाग्र बुद्धि सहित आसाधारण प्रतिभा के धनी थे। आचार्य को विभिन्न विषयों का गहन ज्ञान था। इसी कारण आचार्य कौटिल्य के नाम से भी विख्यात थे। आचार्य श्रेष्ठ विद्वान, दूर्दर्शी होने के साथ-साथ एक योग्य शिक्षक भी थे।

इन्होने विश्वप्रसिद्ध तक्षशिला विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण की। और यही पर आचार्य के पद पर रहकर विद्यार्थियों को शिक्षा भी दी। आचार्य अपने जीवन में ज्ञान का महत्व बहुत अच्छी तरह से समझते थे । यह एक महान अर्थशास्त्री थे।

आचार्य ने अपने जीवन में अच्छी और बुरी दोनों तरह की परिस्थितियों का सामना किया है। आज भी आचार्य चाणक्य द्वारा सैंकड़ों वर्षों पहले लिखे गए नीति शास्त्र की बातें और वचन उतना ही औचित्य रखते हैं। जितना उस समय रखते थे। यही वजह है की इतने वर्ष बीत जाने के पश्चात भी आज के समय में भी चाणक्य नीति के बाते लोगो के बीच बहुत लोकप्रिय है। आचार्य की नीतियां आज भी लोगों को सही राह दिखाती हैं।

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों और बुद्धि का प्रयोग करके ही अपने शत्रु घनानंद का नाश किया। और एक साधारण बालक को मौर्य साम्राज्य का सम्राट बनाया। चंद्रगुप्त को मौर्य साम्राज्य का सम्राट बनाया। इन्होने इतिहास की धारा को ही बदल कर रख दिया।

आचार्य ने निस्वार्थ भाव से अपने गहन अध्ययन, ज्ञान व जीवन से प्राप्त अनुभवों को ग्रंथों में पिरोया है। आचार्य द्वारा लिखी गई चाणक्य नीति मनुष्य को जीवन में आगे बढ़ने और लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रेरित करती हैं। मनुष्य के जीवन के विभिन्न पहलुओं धन, रिश्ते, शत्रु, कार्यक्षेत्र और सामाजिक जीवन पर नीति शास्त्र की बातें प्रकाश डालती हैं।

आचार्य को न केवल किताबी विषयों का बल्कि जीवन की अच्छी और बुरी दोनों तरह की परिस्थितियों का अनुभव था। इन्होने अपने जीवन में हर तरह की परिस्थितियों का सामना किया है। लेकिन इन परिस्थितियों में इन्होने कभी भी हार नहीं मानी और न ही अपना धैर्य खोया। सदैव अपना धैर्य बनाए रखा। इसके द्वारा लिखित नीति शास्त्र की बातें आज भी बहुत लोकप्रिय हैं।

आचार्य के जीवन का एक बड़ा हिस्सा अध्ययन में व्यतीत हुआ। आचार्य को व्यवहारिक जीवन की भी बहुत अच्छी समझ थी। आज भी आचार्य की गिनती भारत के श्रेष्ठ विद्वानों में की जाती है।

अगर व्यक्ति चाणक्य नीति की बाते अपने जीवन में उतार ले तो वह कभी भी असफल नहीं हो सकता है। उस व्यक्ति को हर क्षेत्र में कामयाबी मिलेगी।

चाणक्य नीति की बाते जीवन के पहलुओं को बहुत ही करीब से स्पर्श करती हैं। नीतिशास्त्र में आचार्य चाणक्य ने जीवन से जुड़ी बहुत ही महत्वपूर्ण बातों का जिक्र किया है। इन बातों को अगर सही से समझा जाए व इनका अपने जीवन में अनुसरण किया जाए। तो जीवन को सरल, सुखमय व सफल बनाया जा सकता है।

नीति शास्त्र में कई बातो का जिक्र किया गया है। इन बातो को ध्यान में रखकर आप विपरीत परिस्थितियों को भी आसानी से पार कर लेते हैं। साथ ही कई समस्याओं से भी बचा जा सकता है।

गुप्त साम्राज्य के आचार्य चाणक्य संस्थापक और चंद्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। आचार्य चाणक्य ने कई महत्वपूर्ण ग्रंथ मनुष्य के जीवन को सुखमय बनाने के लिए लिखें हैं। नीतिशास्त्र के कुछ सुझाव लोगों को बहुत ही कठिन लगते हैं। इनसे कुछ लोग सहमत नहीं होते है।

यह भी पढ़ें –  चाणक्य नीति: ऐसे व्यक्ति बनते है धनवान, जो रखते है इस प्रकार की जानकारियां व गुण

यह भी पढ़ें – चाणक्य नीति: सफलता प्राप्त करने के लिए अपनाए आचार्य चाणक्य के ये टिप्स

(Chanakya Niti, Chanakya Niti In Hindi, Chanakya Niti With Image, Chanakya Niti Quotes, चाणक्य नीति, चाणक्य नीति की बातें, चाणक्य नीति हिंदी)

Leave a Reply

ताजा खबर

Related Articles

%d bloggers like this: