Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

चाणक्य नीति: इन कामों को करने से होती है सच्चे सुख की अनुभूति, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति

Chankya Niti: चाणक्य बहुत विद्वान थे। उन्होंने अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान आदि जैसे कई महान ग्रंथों की रचना की। वे तक्षशिला में आचार्य थे। जीवन के लिए दी गई उनकी शिक्षाएं बहुत महत्वपूर्ण हैं। चाणक्य कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ कूटनीति में भी कुशल थे। उन्हें कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है। चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य के महासचिव थे। कहा जाता है कि फिर भी वे शाही महल से दूर एक छोटी सी झोपड़ी में रहते थे। चाणक्य (Chankya Niti) के अनुसार सच्चा सुख भौतिक नहीं आध्यात्मिक है। कुछ ऐसे काम होते हैं जिन्हें करने से व्यक्ति को सच्चा सुख प्राप्त होता है।

प्रकृति का प्यार

प्रकृति हमारे जीवन का आधार है। जब हम प्रकृति के करीब होते हैं। तो हम सभी दर्द और दुखों को भूल जाते हैं। प्रकृति से ही हमें सब कुछ मिलता है। इसलिए हमें इसकी रक्षा करनी चाहिए। और हमें प्रकृति के प्रति अपना आभार प्रकट करना चाहिए।

सत्य का मार्ग

हमें हमेशा सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए। यही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म है। इसलिए हमें हमेशा सत्य का साथ देना चाहिए। सच का साथ देने वाले के दिल पर कोई बोझ नहीं होता। इसलिए वह हमेशा आनंदित महसूस करता है।

त्याग की भावना

त्याग की भावना अपने भीतर रखनी चाहिए। जिसके मन में त्याग की भावना होती है। उसमें संतोष की भावना जागृत होती है। और संतुष्ट व्यक्ति सदा सुखी रहता है। क्योंकि भौतिक सुख क्षणिक होता है। लेकिन आध्यात्मिक सुख ही सच्चा सुख है। साथ ही व्यक्ति में दूसरों की मदद करने की भावना होना भी जरूरी है। किसी जरूरतमंद की मदद करने से जो खुशी मिलती है। वह किसी और काम से नहीं मिल सकती।

आध्यात्मिकता

अध्यात्म मनुष्य की आत्मा को ईश्वर से जोड़ने का तरीका है। इससे मनुष्य के मन में एकाग्रता आती है। अध्यात्म के रास्ते पर चलने के लिए किसी तीसरे व्यक्ति की जरूरत नहीं है। मनुष्य को परम सुख की अनुभूति होती है। अध्यात्म से शांति मिलती है।

यह भी पढ़ें – चाणक्य नीति: इन परिस्थितियों में होती है एक अच्छे भाई और सही पत्नी की पहचान, जाने क्या कहती है चाणक्य नीति

यह भी पढ़ें – चाणक्य नीति: इन लोगों से न जाए अधिक दूर और न रहे अधिक पास, नहीं तो उठाना पड़ सकता है नुकसान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED