चाणक्य नीति: विद्यार्थियों के लिए चाणक्य की ये बातें बहुत काम की, शिक्षा व करियर में दिलाती हैं सफलता

Chankya Niti: चाणक्य नीति के अनुसार, छात्रों को शिक्षा और अपने लक्ष्यों के प्रति गंभीर होना चाहिए। ये चीजें जीवन में सफलता देती हैं।

Chankya Niti: चाणक्य नीति के अनुसार छात्रों को अपनी शिक्षा के प्रति गंभीर होना चाहिए। विद्यार्थी जीवन शिक्षा के प्रति समर्पित होना चाहिए। जो इस बात की परवाह करते हैं। वे अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेते हैं। चाणक्य की ये बातें विद्यार्थियों को अवश्य जाननी चाहिए-

नियम

चाणक्य नीति के अनुसार विद्यार्थियों को नियमों का पालन करना चाहिए। विद्यार्थी जीवन अनमोल है। छात्रों के लिए एक-एक पल महत्वपूर्ण है। नियमों का पालन किए बिना सफलता संभव नहीं है। नियमों का पालन करने की भावना अनुशासन से आती है। इसलिए अनुशासित जीवन शैली अपनाने वाले छात्रों को सफलता प्राप्त करने के लिए संघर्ष नहीं करना पड़ता है। अनुशासन की भावना छात्रों को सक्षम और कुशल बनाती है। इसके साथ ही अनुशासन समय के महत्व को दर्शाता है। ध्यान रहे कि समय कभी किसी के लिए नहीं रुकता। समय पर अपना कार्य करने वाले विद्यार्थी के लिए कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं है।

आलस छोड़ें

चाणक्य नीति के अनुसार आलस्य विद्यार्थियों का सबसे बड़ा शत्रु है। इससे बचना चाहिए। एक बार लक्ष्य निर्धारित कर लेने के बाद उसे पूरा करने की दिशा में काम करना चाहिए। आलस्य हमेशा लक्ष्य से दूर ले जाता है। आज के काम को कल के लिए टालने पर मजबूर कर देता है। अगर समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। इसलिए इस बुरी आदत से बचने की कोशिश करनी चाहिए। आलस्य विद्यार्थी को शोभा नहीं देता।

अच्छी संगति अपनाएं

चाणक्य नीति के अनुसार छात्र को अपनी संगतिके प्रति गंभीर और जागरूक होना चाहिए। संगतिऐसी होनी चाहिए जिससे उसे फायदा हो। ज्ञान में वृद्धि हो। भविष्य में कुछ करने की प्रेरणा मिलती हो। गलत संगति अपनाने से भविष्य खतरे में पड़ जाता है। गलत संगति में रहने से कौशल और प्रतिभा नष्ट हो जाती है। ऐसे लोग बाद में सफलता पाने के लिए संघर्ष करते हैं। इसलिए छात्रों को हमेशा अपनी संगति अच्छी रखनी चाहिए। योग्य व्यक्तियों के साथ अधिक समय व्यतीत करना चाहिए।

गलत चीजों के सेवन से बचे

चाणक्य नीति के अनुसार छात्र जीवन में स्वास्थ्य के प्रति भी जागरूक रहना चाहिए। नशा आदि से बचना चाहिए। विद्यार्थी जीवन में बुरी चीजे अधिक आकर्षित करती हैं। इनसे बचना चाहिए। किसी भी प्रकार का नशा न करें। नशा का मन और मस्तिक पर भी बुरा असर पड़ता है। इससे लक्ष्य हासिल करना भी मुश्किल हो जाता है।

यह भी पढ़ें – गरुड़ पुराण: अगले जन्म में चकवा पक्षी बनते है ऐसे लोग, जो पत्नी पर लगाते हैं ये आरोप

यह भी पढ़ें – विदुर नीति: जिस व्यक्ति में होते हैं ये चार गुण, वही होता है जीवन में सफल

4 COMMENTS

  1. Thank you for sharing superb informations. Your web-site is so cool. I’m impressed by the details that you’ve on this website. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this web page, will come back for extra articles. You, my friend, ROCK! I found simply the info I already searched everywhere and simply couldn’t come across. What a great website.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update