Global Statistics

All countries
645,807,584
Confirmed
Updated on November 27, 2022 12:01 am
All countries
622,901,051
Recovered
Updated on November 27, 2022 12:01 am
All countries
6,635,646
Deaths
Updated on November 27, 2022 12:01 am

Global Statistics

All countries
645,807,584
Confirmed
Updated on November 27, 2022 12:01 am
All countries
622,901,051
Recovered
Updated on November 27, 2022 12:01 am
All countries
6,635,646
Deaths
Updated on November 27, 2022 12:01 am

Chhath Puja 2022: भूलकर भी न करें ये काम नहीं तो नाराज हो जायेगी छठी मैया

- Advertisement -

Chhath Puja Niyam: छठ पर्व में सात्त्विकता का विशेष ध्यान रखा जाता है। छठ पूजा के दौरान इन कार्यों को करना बहुत ही अशुभ माना जाता है।

Chhath Puja Niyam: छठ साल में दो बार मनाया जाता है। चैत्र के महीने में पड़ने वाली छठ पूजा को चैती छठ कहा जाता है और कार्तिक के महीने में पड़ने वाले छठ को कार्तिकी छठ कहा जाता है। हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोग कार्तिक माह के छठ पर्व को अत्यंत भक्ति और समर्पण के साथ मनाते हैं। इस साल कार्तिक मास की छठ पूजा 28 अक्टूबर शुक्रवार से शुरू हो रही है, जो 31 अक्टूबर 2022 तक चलेगी। छठ पूजा की शुरुआत नहाय-खाय से होती है। अगले दिन खरना, फिर संध्या अर्घ्य और अंतिम दिन उगते सूर्य को अर्घ्य देकर लोक आस्था के महान पर्व का समापन होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल छठ पूजा के लिए खरना 29 अक्टूबर शनिवार को होगा। वहीं रविवार 30 अक्टूबर को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। इसके अलावा 31 अक्टूबर को सुबह का अर्घ्य दिया जाएगा। छठ व्रत बहुत कठिन होता है। इस दौरान कुछ बातों का ध्यान रखा जाता है। आइए जानते हैं छठ पूजा के दौरान कौन सी गलतियां नहीं करनी चाहिए।

अर्घ्य देते समय न करें ये गलती

छठ पूजा में सूर्य देव को अर्घ्य देने का विधान है। ऐसे में सूर्य देव को अर्घ्य देते समय स्टील या कांच के बर्तनों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इस दिन बांस के सूप या पीतल से बने धातु के बर्तनों का उपयोग किया जाता है। इसके साथ ही यह भी माना जाता है कि सूर्य देव को अर्घ्य दिए बिना छठ पर्व पूरा नहीं होता है।

छठ पूजा में साफ-सफाई का ख्याल

छठ पूजा के दौरान नहाने से लेकर सुबह के अर्घ्य तक साफ-सफाई का खास ख्याल रखा जाता है। छठ पूजा के दौरान लोग साफ कपड़े पहनते हैं। इसके साथ ही व्रत रखने वाली महिलाएं सूती साड़ी पहनकर जल में खड़े होकर सूर्य की उपासना करती हैं। वहीं पुरुष साफ सूती कपड़े पहनकर सूर्य देव को अर्घ्य देते हैं।

सोने का खास ख्याल

छठ व्रत के दौरान भक्त जमीन पर नहीं सोते हैं। वे व्रत की पूरी अवधि में जमीन पर आराम या विश्राम किया जाता है। खासतौर पर जो व्रती हैं, उन्हें इस बात का विशेष ध्यान रखा होता है। छठ पूजा के नियमों के अनुसार इस दौरान व्रती को पलंग या चारपाई पर नहीं सोना चाहिए।

मांसाहारी भोजन न करें

छठ पूजा में मांसाहारी भोजन नहीं करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दौरान मांसाहारी भोजन करने से छठी माया नाराज हो जाती है।

पूजा सामग्री का रखा जाता है ख्याल

छठ पूजा के दौरान पूजा सामग्री का विशेष ध्यान रखा जाता है। छठ पूजा में पूजा सामग्री के रूप में सिंदूर, कुमकुम, आलता, पीतल या बांस का सूप, शकरकंदी, नारियल, ईख, शहद, पान, सुपारी, लौंग, कद्दू आदि का उपयोग पूजा सामग्री के रूप में किया जाता है।

यह भी पढ़ें –  Chandra Grahan 2022: देव दीपावली पर लगेगा साल का दूसरा चंद्रग्रहण! जानें महत्वपूर्ण बातें

यह भी पढ़ें – Lakshmi Narayan Yoga: बन रहा है लक्ष्मी नारायण योग, इन 3 राशियों को मिलेगा सबसे ज्यादा फायदा!

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles

%d bloggers like this: