Global Statistics

All countries
645,807,584
Confirmed
Updated on November 27, 2022 1:01 am
All countries
622,901,051
Recovered
Updated on November 27, 2022 1:01 am
All countries
6,635,646
Deaths
Updated on November 27, 2022 1:01 am

Global Statistics

All countries
645,807,584
Confirmed
Updated on November 27, 2022 1:01 am
All countries
622,901,051
Recovered
Updated on November 27, 2022 1:01 am
All countries
6,635,646
Deaths
Updated on November 27, 2022 1:01 am

Diwali Puja Vidhi 2022: 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी दीपावली, नोट कर लें पूजन सामग्री और विधि

- Advertisement -

Diwali Puja Samagri List 2022: 24 अक्टूबर 2022 को दिवाली है। दिवाली के दिन लक्ष्मी-गणेश की पूजा का अत्यधिक महत्व है। ऐसा माना जाता है कि यदि आप सच्चे मन और विधि विधान से पूजा करते हैं, तो धन की देवी लक्ष्मी और बुद्धि के देवता गणेश आप पर प्रसन्न रहेंगे। आपका पूरा साल अच्छा रहेगा और आप पर लक्ष्मी-गणेश जी की कृपा बनी रहेगी। दिवाली की रात सर्वार्थ सिद्धि की रात मानी जाता है। ऐसे में शुभ मुहूर्त में विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने से जीवन में खुशहाली आती है। इसके लिए सबसे जरूरी है कि आपके पास पूजा के लिए सारी सामग्री हो।

पूजा सामग्री की सूची पहले से तैयार कर लें

पूजा के समय किसी भी प्रकार की भूल चूक से बचने के लिए पूजा सामग्री की सूची पहले से तैयार कर लें। ऐसा करने से पूजा के समय गलती की कोई संभावना नहीं रहती और पूजा पूरी विधि-विधान से संपन्न होती है।

ये है आवश्यक पूजन सामग्री | Diwali Puja Samagri List

लकड़ी की चौकी
चौकी को ढकने के लिए लाल या पीला वस्त्र
देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्तियां/चित्र
कुमकुम
चंदन
हल्दी
रोली
अक्षत
पान और सुपारी
साबुत नारियल अपनी भूसी के साथ
अगरबत्ती
दीपक के लिए घी
पीतल का दीपक या मिट्टी का दीपक
कपास की बत्ती
पंचामृत
गंगाजल
पुष्प
फल
19.कलश
जल
आम के पत्ते
कपूर
कलावा
साबुत गेहूं के दाने
दूर्वा घास
जनेऊ
धूप
एक छोटी झाड़ू
दक्षिणा (नोट और सिक्के)
आरती की थाली

लक्ष्मी गणेश पूजा की विधि

  • दिवाली की सफाई के बाद घर के को साफ करके गंगाजल छिड़कें।
  • लकड़ी की चौकी पर लाल सूती कपड़ा बिछाएं और बीच में मुट्ठी भर अनाज रखें।
  • कलश को अनाज के बीच में रखें।
  • कलश में पानी भरकर उसमें एक सुपारी, गेंदा का फूल, एक सिक्का और कुछ चावल के दाने डाल दें।
  • कलश पर 5 आम के पत्ते गोलाकार आकार में रखें।
  • बीच में मां लक्ष्मी की मूर्ति और कलश के दाहिनी ओर भगवान गणेश की मूर्ति रखें।
  • एक छोटी-सी थाली में चावल के दानों का एक छोटा सा पहाड़ बनाएं, हल्दी से कमल का फूल बनाएं, कुछ सिक्के डालें और मूर्ति के सामने रखें दें।
  • इसके बाद अपने व्यापार/लेखा पुस्तक और अन्य धन/व्यवसाय से संबंधित वस्तुओं को मूर्ति के सामने रखें।
  • अब देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश का तिलक करें और दीपक जलाएं। इसके साथ ही कलश पर भी तिलक लगाएं।
  • अब भगवान गणेश और लक्ष्मी को फूल चढ़ाएं। इसके बाद अपनी हथेली में पूजा के लिए कुछ फूल रखें।
  • आंखें बंद करके दीपावली पूजा मंत्र का जाप करें।
  • हथेली में रखे फूल को भगवान गणेश और लक्ष्मी जी को अर्पित करें।
  • लक्ष्मीजी की मूर्ति लेकर उन्हें जल से स्नान कराएं और फिर पंचामृत से स्नान कराएं।
  • मूर्ति को फिर से जल से स्नान कराकर किसी साफ कपड़े से पोंछकर वापस रख दें।
  • मूर्ति पर हल्दी, कुमकुम और चावल डालें। माला को देवी के गले में डालकर अगरबत्ती जलाएं।
  • नारियल, सुपारी, पान का पत्ता माता को अर्पित करें।
  • देवी की मूर्ति के सामने कुछ फूल और सिक्के रखें।
  • थाली में दीया लें, पूजा की घंटी बजाएं और लक्ष्मी जी की आरती करें।

यह भी पढ़ें – Dhanteras 2022: इस वर्ष धनतेरस कब है? जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा की विधि

यह भी पढ़ें – Chitragupta Puja Vidhi: कब है चित्रगुप्त पूजा, जानें मुहूर्त और बहीखातों और कलम की पूजा की विधि

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles

%d bloggers like this: