Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

इयर इंफेक्शन कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

- Advertisement -

Ear Problem In Hindi: मानसून में बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। बरसात के मौसम में कई तरह के संक्रमण शरीर में आसानी से प्रवेश कर जाते हैं, जिससे सर्दी, खांसी और जुकाम होना आम बात है। लेकिन बरसात के मौसम में थोड़ी सी लापरवाही से संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। फंगल इंफेक्शन और मौसमी फ्लू के अलावा त्वचा, आंख और कान भी प्रभावित होते हैं। इस मौसम में कान के संक्रमण ज्यादातर लोगों को अक्सर परेशान करते हैं। बारिश के पानी के कारण आपको कानों में तेज दर्द, कान सुन्न होना या कान से जुड़ी कोई अन्य समस्या महसूस होती है। इसके साथ ही कान में खुजली भी हो सकती है। ऐसे में अगर आप भी कान की समस्या से परेशान हैं तो आपको कान में संक्रमण हो सकता है। कान के संक्रमण के लक्षणों को जानकर आप मानसून में कान की समस्या से बचने के उपाय अपना सकते हैं। आइए जानते हैं कान के संक्रमण के लक्षण और बचाव के उपाय।

Ear Problem In Hindi –

कान में संक्रमण के कारण

जानकारों के मुताबिक बारिश के मौसम में आंख, कान और त्वचा से जुड़ी समस्याएं बढ़ जाती हैं। यह नमी के कारण होता है, जो फंगल संक्रमण का कारण बनने वाले बैक्टीरिया के लिए प्रजनन स्थल हो सकता है। कान में गंदगी और ईयरबड्स के निशान भी कान में संक्रमण का कारण बन सकते हैं।

कानों के इंफेक्शन के लक्षण

  • कानों में दर्द होना।
  • कान के अंदर खुजली होना।
  • कान का बाहरी हिस्सा लाल होना।
  • सही से आवाज सुनाई न दे पाना।
  • कानों में भारीपन महसूस होना।
  • कान से सफेद या पीले रंग का पस निकलना।

कान के संक्रमण से बचने के उपाय

कान में नमी आने से बचने के लिए मानसून में हमेशा कान को साफ और सूखा रखें।

कान को पोंछने के लिए एक मुलायम सूती साफ कपड़े का प्रयोग करें।

हमेशा ईयरफोन या ईयरबड्स का इस्तेमाल न करें।

दूसरे के इस्तेमाल किए हुए ईयरफोन का इस्तेमाल न करें।

संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए समय-समय पर ईयरफोन को कीटाणुरहित करें।

गले में खराश या गले के संक्रमण के कारण भी कान में संक्रमण हो सकता है। इसलिए अपनी गर्दन का ख्याल रखें।

हर 6 महीने में ईएनटी विशेषज्ञ से जांच कराएं।

यह भी पढ़ें – आपको सूखी खांसी ने कर दिया है परेशान? घबराएं नहीं, इन घरेलू उपायों से पाएं जल्द निजात

यह भी पढ़ें –  साल भर अपनाने चाहिए ये 10 हेल्थ टिप्स, WHO खुद दे रहा है सलाह

अस्वीकरण: भाग्यमत के स्वास्थ्य और फिटनेस श्रेणी में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टरों, विशेषज्ञों और शैक्षणिक संस्थानों आधार पर तैयार किए गए हैं। लेख में उल्लिखित तथ्यों और सूचनाओं को भाग्यमत के पेशेवर पत्रकारों द्वारा सत्यापित किया गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी निर्देशों का पालन किया गया है। पाठक की जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए संबंधित लेख तैयार किया गया है। भाग्यमत लेख में दी गई जानकारी और जानकारी के लिए दावा या जिम्मेदारी नहीं लेता है। उपरोक्त लेख में वर्णित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने चिकित्सक (डॉक्टर) से परामर्श जरूर करें।

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles