Gale Me Kharash Ke Upay

Gale Me Kharash Ke Upay: सर्दी के मौसम में या मानसून में अक्सर लोगों को गले में खराश या दर्द होता है। गले में होने वाली कई तरह की समस्याएं इंफेक्शन या संक्रमण की वजह से होती हैं। गले के संक्रमण के लक्षण मुख्य रूप से दर्द, खराश, ठंड लगना या बुखार हैं। वहीं दूसरी ओर गले में संक्रमण एक आम समस्या है, जो बैक्टीरिया के संक्रमण, वायरल संक्रमण और एलर्जी के कारण हो सकती है। कभी-कभी मौसम में बदलाव या फ्लू भी गले में संक्रमण का कारण बनता है। गले में संक्रमण होने पर लोग अक्सर उन्हीं लक्षणों पर ध्यान देते हैं, जो गले से जुड़े होते हैं। हालांकि, कई लक्षण शरीर के अन्य हिस्सों पर भी दिखाई देते हैं। बदलते मौसम के कारण अगर आपके गले में खराश, खांसी या दर्द है तो आपको गले में संक्रमण हो सकता है। आइए जानते हैं गले में खराश या गले के संक्रमण के लक्षण, बचाव और इलाज क्या हैं।

Gale Me Kharash Ke Upay –

गले के संक्रमण का खतरा

गले में संक्रमण बैक्टीरिया या वायरस के कारण हो सकता है। वैसे तो किसी भी आयु वर्ग को गले के संक्रमण की शिकायत हो सकती है, लेकिन यह समस्या सबसे ज्यादा छोटे बच्चों में देखी जाती है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले बच्चों को गले में संक्रमण आसानी से हो सकता है।

गले में संक्रमण के लक्षण

  • गले में खराश और दर्द
  • खाने की चीजों को निगलने में कठिनाई
  • टॉन्सिल में सूजन और दर्द
  • टॉन्सिल में सफेद परत जमना
  • गले का लाल होना
  • आवाज में बदलाव और कर्कश हो जाना
  • गला सूखना
  • जुबान पर लाल दाने आना
  • बुखार और खांसी आना
  • सिरदर्द होना

गले में संक्रमण के कारण

गले में इंफेक्शन सर्दी और वायरल इंफेक्शन की वजह से हो सकता है। इससे गले में खराश, दर्द, सूजन और बुखार हो सकता है।

गले में संक्रमण बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण भी हो सकता है। इससे गले में खराश और गले और टॉन्सिल का संक्रमण हो सकता है।

एलर्जी के कारण भी गले में संक्रमण हो सकता है। एलर्जी प्रदूषण, पालतू जानवरों, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली या अन्य कारणों से हो सकती है।

गले में चोट लगने से व्यक्ति के वोकल कॉर्ड और मांसपेशियों पर खिंचाव आ सकता है, जिससे गले में खराश की शिकायत होती है। लंबे समय तक गले में खराश रहने से संक्रमण हो सकता है।

गले के संक्रमण से बचाव

अगर आपके गले में खराश या अन्य लक्षण हैं तो लोगों से शारीरिक दूरी बनाकर रखें।

साफ-सफाई का ध्यान रखें। खाना खाने से पहले और बाद में अच्छी तरह हाथ धोएं।

खांसते या छींकते समय मुंह पर रुमाल रखें।

सिगरेट शराब का सेवन न करें। धूम्रपान गले के संक्रमण को और बढ़ा सकता है।

जहां भी वायु प्रदूषण या गंदगी होती है, वहां गले के संक्रमण का खतरा होता है। गंदी जगहों पर जाने से बचें।

खूब पानी पिएं लेकिन ठंडा पानी न पिएं।

गले में संक्रमण का इलाज | Gale Me Kharash Ke Upay

अगर आपको गले में संक्रमण है तो आपका डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक्स दे सकता है। कोई भी दवाई डॉक्टर की सलाह के बाद ही लें।

गंभीर मामलों में, गले के संक्रमण के इलाज के लिए एक सर्जिकल प्रक्रिया भी होती है, जिसमें टॉन्सिल को निकाल दिया जाता है।

गले के इन्फेक्शन में कई घरेलू नुस्खे फायदेमंद हो सकते हैं। इसमें रोगी नमक, लहसुन, सेब का सिरका, शहद, दूध और हल्दी, अदरक, भाप और मुलेठी आदि का प्रयोग करता है।

यह भी पढ़ें – आपको सूखी खांसी ने कर दिया है परेशान? घबराएं नहीं, इन घरेलू उपायों से पाएं जल्द निजात

यह भी पढ़ें –  साल भर अपनाने चाहिए ये 10 हेल्थ टिप्स, WHO खुद दे रहा है सलाह

अस्वीकरण: भाग्यमत के स्वास्थ्य और फिटनेस श्रेणी में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टरों, विशेषज्ञों और शैक्षणिक संस्थानों आधार पर तैयार किए गए हैं। लेख में उल्लिखित तथ्यों और सूचनाओं को भाग्यमत के पेशेवर पत्रकारों द्वारा सत्यापित किया गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी निर्देशों का पालन किया गया है। पाठक की जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए संबंधित लेख तैयार किया गया है। भाग्यमत लेख में दी गई जानकारी और जानकारी के लिए दावा या जिम्मेदारी नहीं लेता है। उपरोक्त लेख में वर्णित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने चिकित्सक (डॉक्टर) से परामर्श जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *