Global Statistics

All countries
240,188,856
Confirmed
Updated on October 14, 2021 23:59
All countries
215,765,598
Recovered
Updated on October 14, 2021 23:59
All countries
4,893,161
Deaths
Updated on October 14, 2021 23:59

Global Statistics

All countries
240,188,856
Confirmed
Updated on October 14, 2021 23:59
All countries
215,765,598
Recovered
Updated on October 14, 2021 23:59
All countries
4,893,161
Deaths
Updated on October 14, 2021 23:59

गणेश चतुर्थी 2021: गणेश चतुर्थी पर क्यों नहीं देखते चन्द्रमा, अगर हो जाए दर्शन तो क्या करे

Ganesh Chaturthi Kab Hai 2021: शुक्रवार 10 सितंबर 2021 को विनायक चतुर्थी है। विनायक चतुर्थी को कलंक चतुर्थी, गणेश चौथ, डंडा चौथ व शिवा चतुर्थी भी कहते है। धर्मग्रंथों के मुताबिक चंद्रमा के दर्शन केवल इसी चतुर्थी को नहीं करने चाहिए। क्योंकि झूठा कलंक इस दिन चंद्र दर्शन करने से लगता है। श्री मदभागवत के मुताबिक भगवान श्रीकृष्ण को स्यमंतक मणि चुराने का मिथ्या कंलक इस दिन चांद देखने से ही लगा था। जिससे मुक्ति पाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने विधिवत गणेश चतुर्थी का व्रत किया था।

क्यों नहीं देखते हैं चंद्रमा

एक पौराणिक कथा इस संबंध में प्रचलित है कि गज का मुख जब भगवान गणेश को लगाया गया तो वे गजानन कहलाए। और पृथ्वी की सबसे पहले परिक्रमा माता-पिता के रूप में करने के कारण अग्रपूज्य हुए। उनकी स्तुति सभी देवताओं ने की लेकिन चंद्रमा मंद-मंद मुस्कुराते रहें। और चंद्रमा को अपने सौंदर्य पर अभिमान था। गणेशजी समझ गए कि अभिमान वश चंद्रमा उनका उपहास कर रहे हैं। भगवान श्रीगणेश ने क्रोध में आकर चंद्रमा को श्राप दे दिया कि तुम आज से काले हो जाओगे। अपनी भूल का एहसास चंद्रमा को हुआ। चंद्रमा ने श्रीगणेश जी से क्षमा मांगी तो उन्होंने कहा कि तुम एक दिन सूर्य के प्रकाश को पाकर पूर्ण हो जाओगे। मतलब पूर्ण प्रकाशित होंगे। पर तुम्हें दण्ड देने के लिए चतुर्थी का यह दिन हमेशा याद किया जाएगा। कोई अन्य व्यक्ति अपने सौंदर्य पर इस दिन को याद कर अभिमान नहीं करेगा। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के दिन तुम्हारे दर्शन जो कोई इंसान करेगा। झूठा आरोप उस पर लगेगा।

अगर दर्शन हो जाए तो क्या करें

लेकिन अगर आपको चंद्र दर्शन गणेश चतुर्थी को हो जाये तो गणेशजी कलंक चतुर्थी की कृष्ण-स्यमंतक कथा को पढ़ने या सुनने पर क्षमा कर देते हैं। हर दूज का चाँद कलंक के दोष से बचने के लिए देखना भी आवश्यक है। चंद्र दर्शन चतुर्थी पर हो जाए तो कलंक इस मंत्र को जपने से भी नहीं लगता है।

सिंहः प्रसेन मण्वधीत्सिंहो जाम्बवता हतः।
सुकुमार मा रोदीस्तव ह्मेषः स्यमन्तकः।।

Ganesh Chaturthi 2021: गणेशजी की पूजा ऐसे करें

श्री गणेश के पूजन के वक्त बेसन या बूंदी के लड्डू या गुरधानी का प्रयोग प्रसाद के लिए किया जा सकता है। लालचन्दन, मोली, चावल, धूप, दीप, सिन्दूर, पुष्प, दूर्वा, जनेऊ इत्यादि से गणेश जी का पूजन भक्तिभाव से करना चाहिए। गणेशजी शीघ्र प्रसन्न गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ करने से होते हैं। ‘ॐ गं गणपतये नमः’ का पाठ कष्टों से निवारण और शत्रु बाधा से बचने के लिए करना उत्तम रहता है। मान-सम्मान धान की खील से पूजा करना दिलाता है। वहीँ धन में बढ़ोतरी के लिए प्रत्येक शुक्रवार को गणेशजी के साथ लक्ष्मी कीपूजा करनी चाहिए। सुख-समृद्धि व संतान प्राप्ति के लिए प्रत्येक बुधवार को गणेशजी पर सिन्दूर चढ़ाना शुभ होता है। भगवान शिव, माता पार्वती, भाई कार्तिकेय,दोनों पत्नी रिद्धि व सिद्धि तथा दोनों पुत्र लाभ व क्षेम का गणेशजी के पूजन व आरती के समय ध्यान भी अवश्य करना चाहिए। चांदी या लकड़ी के डंडे पूजा-आरती के उपरांत अवश्य बजाने चाहिए।

BHAGYMT ON OTHER PLATFORM

Join Our Telegram Channel – https://t.me/bhagymat

Follow On Koo – https://www.kooapp.com/profile/bhagymat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED