Global Statistics

All countries
332,086,308
Confirmed
Updated on January 18, 2022 3:17 pm
All countries
267,138,689
Recovered
Updated on January 18, 2022 3:17 pm
All countries
5,566,031
Deaths
Updated on January 18, 2022 3:17 pm

गरुड़ पुराण: मृत्यु के बाद मृतक के परिजनों को इन बातों का रखना चाहिए ध्यान, जाने गरुड़ पुराण के ये नियम

Garud Puran: गरुड़ पुराण (Garud Puran) में किसी की मृत्यु के बाद उसके परिवार के सदस्यों को कुछ नियमों का पालन करने के लिए कहा गया है ताकि मृतक की आत्मा का मोह कम हो सके और वह अपनी नई यात्रा अच्छी तरह से शुरू कर सके।

1. गरुड़ पुराण (Garud Puran) कहा गया है कि दाह संस्कार करने के बाद परिवार के सदस्यों को कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहिए। तुम्हारे न देखने से आत्मा को यह सन्देश मिलता है कि अब उसके साथ उसके घरवालों का मोह समाप्त हो गया है। ऐसे में आत्मा के लिए मोह को छोड़कर नई यात्रा पर जाना आसान हो जाता है।

2. गरुड़ पुराण में यम मार्ग को अत्यंत कठिन बताया गया है। इस मार्ग में आत्मा को अधिक कष्ट न हो, इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति को तिल, लोहा, सोना, कपास, नमक, सात प्रकार के अनाज, भूमि, गाय, पानी के बर्तन और पादुका मृत्यु से पहले दान करना चाहिए।

3. एक ब्रह्मचारी को माता-पिता और शिक्षकों के अलावा किसी और को कंधा नहीं देना चाहिए। इससे उसका ब्रह्मचर्य टूट जाता है। दाह संस्कार से पहले किसी भी मृत शरीर को सबसे पहले गंगाजल से नहलाना चाहिए और उस पर चंदन, घी और तिल के तेल का लेप करना चाहिए।

4. दाह संस्कार के समय मटके में पानी भरकर उसमें छेद किया जाता है। और अंत में मटके को तोड़ा जाता है। मटके तोड़ना मृतक से मोहभंग का संकेत है। इस क्रिया को करने से आत्मा का अपने परिवार के लोगों से आसानी से मोहभंग हो सकता है।

5. श्मशान से लौटने के बाद मिर्च या नीम को दांतों से चबाकर तोड़ देना चाहिए। इसके बाद लोहा, जल, अग्नि और पत्थर को छूकर घर में प्रवेश करना चाहिए। इसके बाद 11 दिनों तक शाम के समय घर के बाहर दीपदान करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – गरुड़ पुराण: जाने किस पाप के लिए मनुष्य को कौन सी मिलती है सजा

यह भी पढ़ें – गरुड़ पुराण: मासिक धर्म के बारे में क्या कहता है गरुड़ पुराण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update