गरुड़ पुराण: गरुड़ पुराण में है उल्लेख, ये 6 आदतें जीवन में पैदा कर सकती हैं परेशानियां

Garuda Purana: हिंदू धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का भी विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि गरुड़ पुराण में जीवन जीने के सही तरीकों के बारे में बताया गया है।

Garuda Purana: हिंदू धर्म के 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का भी विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि गरुड़ पुराण में जीवन जीने के सही तरीकों के बारे में बताया गया है। जिनके नियमों का पालन करके हम अपने जीवन की सभी परेशानियों को दूर कर सकते हैं। गरुड़ पुराण में नीति और नियमों के अलावा वास्तविकता का परिचय दिया गया है। इसमें लिखी बातों का पालन करके लोग अपने जीवन को सरल बना सकते हैं और सभी परेशानियों को दूर कर सकते हैं।

Garuda Purana: व्यक्ति को सही मार्ग दिखाने के लिए धार्मिक ग्रंथ हैं। अगर हम इनमें से बातों चीजों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करें तो हम जीवन की सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। गरुड़ पुराण एक महान पुराण है। जिसमें जीवन जीने से लेकर मृत्यु के बाद तक की स्थितियों का वर्णन किया गया है। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु ने इस पुराण में कही गई बातों को अपने वाहन गरुड़ को बताया है। उन सभी बातों का उल्लेख गरुड़ पुराण में किया गया है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे गलत कामों के बारे में, जिनकी वजह से आपके जीवन में आ रही परेशानियां खत्म होने का नाम नहीं लेतीं।

इन आदतों से होती है परेशानी

चिंता

गरुड़ पुराण में चिंता को चिता के समान बताया गया है। कहते हैं चिंता इंसान के दिमाग को खोखला कर देती है। इतना ही नहीं चिंता करने से दिमाग की सोचने और समझने की शक्ति कम हो जाती है। और ऐसे में गलत फैसले ले लेता है। इससे जीवन में परेशानियां और भी बढ़ जाती हैं। जीवन में कभी चिंता मत करो। जो हो रहा है उसे भगवान पर छोड़ दो और कर्म करते रहो।

डर

डर किसी समस्या का समाधान नहीं है। यदि आप किसी समस्या का समाधान करना चाहते हैं, तो आपको उस डर का सामना करना होगा। डरना नहीं चाहिए। अगर आपको किसी बात का डर है तो आपकी परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए जीवन की समस्याओं का डटकर सामना करना चाहिए।

ईर्ष्या

किसी भी व्यक्ति की प्रगति या सफलता देखकर ईर्ष्या करना व्यक्ति को अंदर ही अंदर जला देता है। ईर्ष्या के कारण व्यक्ति न तो स्वयं सुखी रह पाता है और न ही जीवन में उन्नति कर पाता है। उस व्यक्ति का दिमाग दूसरों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए ही दौड़ता है न कि अपनी तरक्की के लिए। ऐसे में वह अपना नुकसान करता है और जीवन भर पछताता रहता है।

क्रोध

गरुड़ पुराण में कहा गया है कि व्यक्ति क्रोध में कभी भी सही निर्णय नहीं लेता है और ऐसे में उसे दुख के अलावा और कुछ हाथ नहीं लगता। ऐसे में व्यक्ति को अपने मन को शांत रखना चाहिए।

आलस्य

आलस्य व्यक्ति का सबसे बड़ा शत्रु माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति बहुत बुद्धिमान है, लेकिन आलसी है, तो उसे मिलने वाला अवसर भी खो जाएगा। ऐसे में उसके हाथ में कुछ नहीं आएगा। और मुसीबतें उसे जीवन भर घेरे रहेंगी।

नकारात्मक सोच

व्यक्ति की सोच भी उसकी प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर आपका नजरिया नकारात्मक होगा तो व्यक्ति को कभी भी कुछ भी सही नजर नहीं आएगा। उसे हर चीज में सिर्फ नेगेटिविटी ही नजर आएगी। ऐसे में मुसीबतें जीवन भर आपका साथ नहीं छोड़ेगी।

यह भी पढ़ें –  गरुड़ पुराण: जीवन में ये कार्य ला सकते हैं संकट, वक्त रहते दूरी बना लेना बेहतर

यह भी पढ़ें – चाणक्य नीति: कौन सी हैं वो आदते जिनके कारण नहीं मिलता है मान – सम्मान

4 COMMENTS

  1. I like what you guys are up too. Such intelligent work and reporting! Carry on the excellent works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it will improve the value of my site :).

  2. you’re truly a good webmaster. The site loading pace is amazing. It sort of feels that you are doing any unique trick. Moreover, The contents are masterwork. you’ve done a fantastic activity on this matter!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update