Garuda Purana

Garuda Purana: गरुड़ पुराण के अनुसार व्यक्ति के जीवन में सुख-दुख उसके कर्मों के कारण होते हैं। मनुष्य के कर्मों का प्रभाव उसके जीवित रहते, मृत्यु के बाद और अगले जन्म तक रहता है।

Garuda Purana: गरुड़ पुराण के अनुसार व्यक्ति के जीवन में सुख-दुख उसके कर्मों के कारण होते हैं। गरुड़ पुराण में कहा गया है कि व्यक्ति के कर्मों का प्रभाव उसके जीवन में, मृत्यु के बाद और अगले जन्म तक जीवित रहता है। गरुड़ पुराण भी हिंदू धर्म के 18 पुराणों में से एक है। यह बेहतर तरीके से जीने के लिए मार्गदर्शन करता है। हमें जीवन में क्या करना चाहिए, क्या नहीं, कैसा व्यवहार करना चाहिए आदि गरुड़ पुराण में बताया गया है। परिवार में बहुत से लोग रहते हैं और सभी का व्यवहार एक दूसरे से अलग होता है। लेकिन फिर भी वे प्यार से रहते हैं। लेकिन साथ ही अन्य परिवारों में भी वाद-विवाद और संघर्ष की स्थिति बनी रहती है। ऐसे लोगों में सहनशीलता नहीं होती। गरुड़ पुराण के अनुसार हमारी बुरी आदतें ही ऐसी स्थिति के लिए जिम्मेदार होती हैं। इन आदतों का घर के वातावरण से कोई संबंध नहीं है।

लोगों की ये बुरी आदतें घर में नकारात्मक स्थितियां पैदा करती हैं। जिससे परिवार के सदस्यों के बीच आपसी कलह होने लगती है और स्वभाव में गुस्सा और चिड़चिड़ापन बढ़ने लगता है। इसलिए जरूरी है कि इन आदतों में सुधार किया जाए। आइए जानते हैं उन आदतों के बारे में जो घर की सुख-शांति छीन लेती हैं।

रात में झूठे बर्तन छोड़ना

गरुड़ पुराण में कहा गया है कि रात के समय रसोई में झूठे बर्तन रखने से दरिद्रता आती है। इससे घर में कलह की स्थिति बनी रहती है। इसके पीछे कारण यह है कि पहले के जमाने में लोग किचन को पूरी तरह साफ करके ही सोते थे। लेकिन आजकल लोगों ने बर्तन साफ करने वाली लगा रखी है। जो शाम को बर्तन कर जाती है। इसलिए रात के खाने के बर्तन सिंक में पड़े रहते हैं।

घर को गंदा रखना

गरुड़ पुराण के अनुसार घर में साफ-सफाई और व्यवस्था रखना बहुत जरूरी है, नहीं तो घर में बीमारियां बढ़ने लगती हैं। इतना ही नहीं गरुड़ पुराण के अनुसार घर में गंदगी रखने से मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है। घर में बीमारियों के बढ़ने से बेवजह के खर्चे बढ़ जाते हैं। इससे घर में मतभेद और मतभेद बढ़ने लगते हैं और घरवालों के बीच तकरार हो जाती है।

कबाड़ जमा करना

अक्सर लोग घर का कबाड़ छत पर रख देते हैं और वहीं भूल जाते हैं। लेकिन गरुड़ पुराण के अनुसार घर के किसी भी हिस्से में कबाड़ नहीं रखना चाहिए। कहा जाता है कि कबाड़ रखने से घर में नकारात्मकता बढ़ती है। इसके साथ ही आर्थिक संकट स्थिति उत्पन्न हो जाती है। घर में कभी भी जंग लगे लोहे और फर्नीचर जैसा कबाड़ नहीं रखना चाहिए। इससे घर की परेशानियां बड़े विवादों में बदल सकती हैं।

यह भी पढ़ें – विदुर नीति: अकेले नहीं करना चाहिए ये काम, नहीं तो उठाना पड़ सकता है नुकसान

यह भी पढ़ें – चाणक्य नीति: विद्यार्थियों के लिए चाणक्य की ये बातें बहुत काम की, शिक्षा व करियर में दिलाती हैं सफलता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *