Global Statistics

All countries
622,932,684
Confirmed
Updated on October 1, 2022 12:08 pm
All countries
601,247,253
Recovered
Updated on October 1, 2022 12:08 pm
All countries
6,549,279
Deaths
Updated on October 1, 2022 12:08 pm

Global Statistics

All countries
622,932,684
Confirmed
Updated on October 1, 2022 12:08 pm
All countries
601,247,253
Recovered
Updated on October 1, 2022 12:08 pm
All countries
6,549,279
Deaths
Updated on October 1, 2022 12:08 pm

Guru Purnima 2022: कुंडली में है गुरु दोष तो गुरु पूर्णिमा पर करें ये आसान उपाय, जल्द मिलेगी राहत

- Advertisement -

Guru Purnima 2022: आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। हिंदू धर्म में इस दिन गुरु की पूजा की जाती है। इस बार गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई 2022 को पड़ रही है। धार्मिक मान्यता के अनुसार वेदों के रचयिता महर्षि वेद व्यास जी का जन्म इसी दिन हुआ था। इसलिए इस दिन को वेद व्यास जी की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। इसके अलावा इस दिन को आषाढ़ पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) और व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। प्राचीन काल से ही गुरु को विशेष महत्व दिया जाता है। गुरु ही जीवन में सही रास्ते पर चलना सिखाता है। जबकि ज्योतिष में गुरु को भगवान विष्णु और देव बृहस्पति के रूप में माना जाता है। कहा जाता है कि यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में गुरु कमजोर हो तो उसे कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कुंडली में बृहस्पति की स्थिति को मजबूत करने के लिए ज्योतिष शास्त्र में कई उपाय बताए गए हैं। ऐसा माना जाता है कि गुरु पूर्णिमा के दिन इन उपायों को करने से कुंडली में गुरु दोष दूर होता है। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।

यह भी पढ़ें –  Raksha Bandhan 2022: रक्षा बंधन किस तारीख को है? इतने समय तक रहेगा भद्रा काल, शुभ समय ही बांधें राखी

यह भी पढ़ें – Hartalika Teej 2022: कब है हरतालिका तीज, शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि और महत्व

गुरु दोष दूर करने के उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि आपका पास गुरु नहीं है तो आप गुरु पूर्णिमा के दिन भगवान श्री हरि विष्णु को अपना गुरु मानकर उनकी पूजा कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे कुंडली में गुरु दोष दूर होता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में गुरु को मजबूत करने के लिए ‘ॐ बृ बृहस्पतये नमः’ मंत्र का जाप करना चाहिए। खासकर गुरुवार के दिन इस मंत्र का जाप करने से इसका फल जरूर मिलता है। इसकी शुरुआत आप गुरु पूर्णिमा से कर सकते हैं।

कुंडली में गुरु दोष को कम करने और भाग्यवान बनने के लिए गुरु पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त में घर पर किसी पुजारी से गुरु यंत्र की स्थापना करवाएं और प्रतिदिन उसकी पूजा करें।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि व्यापार में लगातार नुकसान हो रहा हो तो आषाढ़ गुरु पूर्णिमा के दिन जरूरतमंद या गरीब व्यक्ति को पीले रंग के अनाज, पीले कपड़े या पीले रंग की मिठाई का दान करें।

अगर किसी छात्र के मन में पढ़ाई को लेकर तनाव है या सफल न होने का डर है, तो उन्हें गुरु पूर्णिमा के दिन गाय की सेवा करनी चाहिए। साथ ही इस दिन गीता पाठ करना भी शुभ माना जाता है।

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles