Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

Global Statistics

All countries
623,014,271
Confirmed
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
601,335,724
Recovered
Updated on October 1, 2022 2:09 pm
All countries
6,549,445
Deaths
Updated on October 1, 2022 2:09 pm

Health Tips: अक्सर महसूस होती है थकान और कमजोरी? इस विटामिन की कमी से हो सकती है ऐसी समस्या

- Advertisement -

Health Tips | Health Tips In Hindi: शाम को ऑफिस से घर आने के बाद या किसी शारीरिक परिश्रम के बाद थकान महसूस होना स्वाभाविक है। हालांकि, अगर आप अक्सर ऐसी समस्याओं का अनुभव करते हैं, तो इस बारे में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। लगातार थकान की समस्या शरीर में विटामिन की कमी या किसी गंभीर बीमारी के कारण भी हो सकती है।

Health Tips: सामान्य तौर पर इसका मुख्य कारण विटामिन बी-12 की कमी को माना जाता है। विटामिन बी-12 शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी कमी से शरीर में ऑक्सीजन का स्तर भी असंतुलित हो जाता है।

शरीर को ठीक से काम करने के लिए विटामिन बी-12 की जरूरत होती है। लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण और तंत्रिका तंत्र की रक्षा के लिए शरीर को दैनिक आधार पर इस विटामिन की आवश्यकता होती है। आहार के माध्यम से इस विटामिन की पूर्ति की जा सकती है, हालांकि जिन लोगों में इसकी कमी है, उन्हें डॉक्टर द्वारा सप्लीमेंट लेने की सलाह भी दी जा सकती है। विटामिन बी-12 इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने, मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने और शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने में मददगार है। आइए जानते हैं थकान और कमजोरी की स्थिति में किन चीजों का सेवन आप में इस विटामिन की जरूरत को पूरा कर सकता है?

इस विटामिन की कमी कहाँ देखी जाती है?

हालांकि इस विटामिन की कमी किसी को भी हो सकती है, लेकिन कुछ लोगों में इसके खतरे अधिक पाए गए हैं। जिन लोगों के परिवार में विटामिन बी12 की कमी का इतिहास रहा है, उन्हें विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। मधुमेह सहित ऑटोइम्यून रोग, क्रोहन डिजीज और एचआईवी संक्रमितों में भी इसकी कमी अधिक देखी जाती रही है। कुछ विशेष प्रकार की दवाएं लेने वाले और शाकाहारी भोजन का पालन करने वाले लोगों में भी इसकी कमी हो सकती है।

आहार में डेयरी उत्पादों की मात्रा बढ़ाएं

शाकाहारी भोजन में डेयरी उत्पादों का सेवन करने से शरीर के लिए आवश्यक विटामिन बी12 आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। हड्डियों और जोड़ों को मजबूत करने वाले आवश्यक प्रोटीन के साथ दूध उत्पादों के दैनिक सेवन से विटामिन-बी12 आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि 1 कप कम वसा वाले दूध में इस विटामिन का 1.2 माइक्रोग्राम (एमसीजी) होता है। इसके लिए आप रोजाना पनीर और दही आदि का सेवन भी कर सकते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियों के सेवन के फायदे

अधिकांश सभी हरी पत्तेदार सब्जियों में बी विटामिन की अच्छी मात्रा होती है, हालांकि अध्ययनों से पता चला है कि गोभी आपके लिए सबसे अधिक फायदेमंद हो सकती है। इसके अलावा, हरी सब्जियां, विशेष रूप से पालक, आपकी दैनिक विटामिन बी 12 आवश्यकताओं को पूरा करने में फायदेमंद हो सकती हैं। पालक विटामिन ए सहित कई अन्य प्रकार के पोषक तत्वों से भी भरपूर होता है। आहार में रोजाना कुछ या दो तरह की हरी सब्जियों को शामिल करें।

मांस और मछली का सेवन

रेड मीट और कई तरह की मछलियों का सेवन आपके लिए विटामिन बी12 की कमी को आसानी से पूरा करने में मददगार हो सकता है। समुद्री भोजन भी विटामिन बी12 का समृद्ध स्रोत माना जाता है। रेड मीट से उच्च मात्रा में आयरन के साथ-साथ कई प्रकार के विटामिन और प्रोटीन भी प्राप्त किए जा सकते हैं। विटामिन बी-12 की कमी वाले लोगों के लिए मांसाहारी चीजों का सेवन सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। हालांकि इसका ज्यादा सेवन हानिकारक भी हो सकता है, लेकिन इस बात का ध्यान रखें।

यह भी पढ़ें – डायबिटीज में फायदेमंद हैं ये सब्जियां, क्या आप करते हैं इनका सेवन?

यह भी पढ़ें – घुटनों में बहुत ज्यादा रहता है दर्द तो जानें इसके कारण और बचाव के उपाय

अस्वीकरण: भाग्यमत के स्वास्थ्य और फिटनेस श्रेणी में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टरों, विशेषज्ञों और शैक्षणिक संस्थानों आधार पर तैयार किए गए हैं। लेख में उल्लिखित तथ्यों और सूचनाओं को भाग्यमत के पेशेवर पत्रकारों द्वारा सत्यापित किया गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी निर्देशों का पालन किया गया है। पाठक की जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए संबंधित लेख तैयार किया गया है। भाग्यमत लेख में दी गई जानकारी और जानकारी के लिए दावा या जिम्मेदारी नहीं लेता है। उपरोक्त लेख में वर्णित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने चिकित्सक (डॉक्टर) से परामर्श जरूर करें।

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles