Health Tips in Hindi: आपको सूखी खांसी ने कर दिया है परेशान? घबराएं नहीं, इन

Health Tips in Hindi: लोगों को इस मौसम में सूखी खांसी भी हो जाती है। कई आयुर्वेदिक नुस्खे और उपचार आपको सूखी खांसी से जल्द राहत दिला सकते हैं।

Health Tips in Hindi: सर्दियों में सर्दी-जुकाम होना आम बात है। बदलते मौसम के साथ कई बीमारियां भी आती हैं। सर्दी और फ्लू पहले हैं। अगर सर्दियों में सर्दी-जुकाम हो तो इसके लिए कई विकल्प हैं। इसे घरेलू उपचार और जड़ी-बूटियों से भी ठीक किया जाता है। हालांकि, कोरोना काल में सर्दी-जुकाम को नजरअंदाज करना नुकसानदायक हो जाता है। वहीं इस मौसम में लोगों को सूखी खांसी भी हो जाती है। कई आयुर्वेदिक नुस्खे आपको सूखी खांसी से जल्द राहत दिला सकते हैं। आइए जानते हैं सूखी खांसी को ठीक करने के ऐसे ही कई असरदार घरेलू नुस्खे।

शहद, अदरक और मुलेठी

अगर आपको सूखी खांसी है तो इसके लिए शहद, अदरक और मुलेठी का इस्तेमाल किया जा सकता है। ये सभी चीजें हर किचन में आसानी से मिल जाती हैं। इन सभी चीजों में हीलिंग गुणों की मौजूदगी के कारण यह आपकी खांसी को ठीक करने के साथ-साथ इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है।

कांतकारी

कांतकारी आमतौर पर खांसी के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। यह आमतौर पर श्वसन पथ में बलगम के जमा होने के कारण होता है। कांतकारीशरीर में कफ को संतुलित करके काम करती है। और फेफड़ों में जमा बलगम को बाहर निकालने में मदद करती है।

तिल का तेल

सूखी खांसी को जड़ से खत्म करने में तिल काफी असरदार होता है। इसके इस्तेमाल से आपको काफी आराम मिलेगा। मिश्री में तिल मिलाकर गुनगुने पानी के साथ सेवन करें।

तुलसी

वैसे तो तुलसी के पत्तों के कई फायदे होते हैं। खांसी के लिए तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल किया जा सकता है। तुलसी के पत्तों को गर्म पानी में उबालकर पीने से गले में काफी आराम मिलता है। खांसी के लिए भी कारगर है।इस मौसम में लोगों को सूखी खांसी भी हो जाती है। कई आयुर्वेदिक नुस्खे और उपचार आपको सूखी खांसी से जल्द राहत दिला सकते हैं।

यह भी पढ़ें – Health Tips: बुखार होने पर न करें अश्वगंधा का सेवन, हो सकता है नुकसान

यह भी पढ़ें – चावल सर्दी होने पर खाएं या नहीं? क्या होता है इससे नुकसान

अस्वीकरण: भाग्यमत के स्वास्थ्य और फिटनेस श्रेणी में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टरों, विशेषज्ञों और शैक्षणिक संस्थानों आधार पर तैयार किए गए हैं। लेख में उल्लिखित तथ्यों और सूचनाओं को भाग्यमत के पेशेवर पत्रकारों द्वारा सत्यापित किया गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी निर्देशों का पालन किया गया है। पाठक की जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए संबंधित लेख तैयार किया गया है। भाग्यमत लेख में दी गई जानकारी और जानकारी के लिए दावा या जिम्मेदारी नहीं लेता है। उपरोक्त लेख में वर्णित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने चिकित्सक (डॉक्टर) से परामर्श जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *