होलिका दहन 2022: इस दिन भूलकर भी न करें ये काम, अन्यथा हो सकती है परेशानी

Holika Dahan Kab Hai 2022: होलिका दहन का बहुत ही खास महत्व है। होलिका दहन के दिन लोग विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। ऐसा माना जाता है कि होलिका दहन के दिन व्रत और पूजा करने से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं।

Holika Dahan Kab Hai 2022: पूरे देश में फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन होली का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। होली (Holi) हिंदुओं का दो दिवसीय त्योहार है और होली की पूर्व संध्या को ‘होलिका दहन’ (Holika Dahan) के नाम से जाना जाता है। रंग वाली होली शुक्रवार, 18 मार्च को मनाई जाएगी। यानी गुरुवार 17 मार्च को होली का दहन किया जाएगा। इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। होली उन त्योहारों में से एक है जो सभी धार्मिक भेदों को भूलकर खेला जाता है। यह त्योहार भाईचारे और समानता के संदेश को बढ़ावा देता है। होलिका दहन का बहुत ही विशेष महत्व है। होलिका दहन के दिन लोग विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत और पूजा करने से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार होलिका दहन के दिन पूजा अर्चना करने से घर में लक्ष्मी का वास होता है। वैसे तो होलिका दहन पर लोग तरह-तरह के उपाय करते हैं, लेकिन इस खास दिन पर भूलकर भी कुछ खास काम नहीं करना चाहिए। आइए जानते हैं क्या हैं वो काम-

होलिका दहन पर न करें ये काम

होलिका दहन के दिन सफेद रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता है कि होलिका दहन के दिन नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव अधिक होता है, इसलिए सफेद रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए या सफेद रंग के किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए।

होलिका दहन के दिन किसी को धन उधार देने से बचें। होलिका दहन के दिन अगर आप इसे किसी को देते हैं तो आपको आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

होलिका दहन के दिन पूजा करते समय भूलकर भी अपना सिर खुला न रखें। फिर चाहे वो नर हो या स्त्री। इस दिन सिर ढककर पूजा करने से लाभ मिलता है।

नवविवाहित जोड़ों को होलिका दहन की पूजा भूलकर भी नहीं देखनी चाहिए। अगर कोई ऐसा करता है तो इसका असर उनके वैवाहिक जीवन पर पड़ता है। इसके अलावा इस दिन कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए।

होलिका दहन के दिन रास्ते में किसी भी वस्तु को हाथ नहीं लगाना चाहिए। यह किसी भी तरह का टोटका हो सकता है जिसे छूते ही नकारात्मक प्रभाव आ जाएगा।

यह भी पढ़ें – चैत्र नवरात्रि 2022: कब से शुरू हो रही है चैत्र नवरात्रि, जानिए तिथि, पूजा विधि और मुहूर्त

यह भी पढ़ें – होलाष्टक 2022: 10 से 17 मार्च तक होलाष्टक, जाने इस दौरान क्यों नहीं करते शुभ कार्य?

यह भी पढ़ें –  लड्डू होली 2022: बरसाना में इस दिन मनाई जाएगी लड्डू होली, जानिए कैसे शुरू हुई यह परंपरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update