Global Statistics

All countries
261,971,987
Confirmed
Updated on November 29, 2021 9:22 PM
All countries
234,840,352
Recovered
Updated on November 29, 2021 9:22 PM
All countries
5,220,545
Deaths
Updated on November 29, 2021 9:22 PM

Global Statistics

All countries
261,971,987
Confirmed
Updated on November 29, 2021 9:22 PM
All countries
234,840,352
Recovered
Updated on November 29, 2021 9:22 PM
All countries
5,220,545
Deaths
Updated on November 29, 2021 9:22 PM

आज का ज्ञान: जानिए कोयले से कैसे बनती है बिजली?

How electricity is Generated In Hindi: दुनिया भर में कोयले की कमी बड़े पैमाने पर महसूस की जा रही है। इसका असर भारत में भी देखने को मिल रहा है। देश के कई बिजली संयंत्रों में कोयले का स्टॉक कुछ ही दिन बचा है। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि जल्द ही देश को बड़े पैमाने पर बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है। बिजली उत्पादन में कमी के कारण आने वाले समय में हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। इसका देश की अर्थव्यवस्था पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। बिजली की कमी से कई उद्योग ठप हो सकते हैं। इसका सीधा असर देश के करोड़ों लोगों और उनकी आमदनी पर पड़ने वाला है। कोयला संकट की इस विकट परिस्थिति में आपके मन में यह सवाल जरूर उठा होगा कि कोयले से बिजली कैसे बनती है? इसी कड़ी में आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि कोयले की मदद से बिजली कैसे पैदा की जाती है?

सबसे पहले, मालगाड़ी या किसी अन्य माध्यम से खदानों से बिजली संयंत्र में कोयले का आयात किया जाता है। कोयले के खनन के बाद, इसे एक महीन पाउडर में पीस दिया जाता है। ताकि इसे आगे के काम के लिए इस्तेमाल किया जा सके।

इस ग्राउंड कोयले का उपयोग बॉयलर के अंदर पानी गर्म करने के लिए किया जाता है। जब पानी पर्याप्त गर्म हो जाता है। तो यह उच्च दबाव वाली भाप में बदल जाता है। इस उच्च दाब वाली भाप का इस्तेमाल टरबाइन को घुमाने हेतु किया जाता है।

उच्च दबाव वाली भाप टरबाइन को बहुत तेजी से घुमाती है। ये टर्बाइन-जनरेटर से जुड़े होते हैं। जब टरबाइन घूमता है। जनरेटर के भीतर एक चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न होता है। इस चुंबकीय क्षेत्र की मदद से बिजली पैदा होती है। और इसे ग्रिड की मदद से पूरे देश में पहुंचाया जाता है।

भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा कोयला उत्पादक देश है। इसके बावजूद देश को कोयले की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। इसका एक बड़ा कारण बताया जा रहा है कि पिछले साल कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर में कोयले का उत्पादन काफी कम हो गया था। जिसका असर अब देखने को मिल रहा है। उधर, देश में मानसून के मौसम में खूब बारिश हुई। ऐसे में कई खदानें बंद होने के कारण पर्याप्त मात्रा में कोयले का उत्पादन नहीं हो सका।

(How electricity is Generated)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED