Global Statistics

All countries
230,172,313
Confirmed
Updated on September 22, 2021 02:45
All countries
205,153,637
Recovered
Updated on September 22, 2021 02:45
All countries
4,720,051
Deaths
Updated on September 22, 2021 02:45

Global Statistics

All countries
230,172,313
Confirmed
Updated on September 22, 2021 02:45
All countries
205,153,637
Recovered
Updated on September 22, 2021 02:45
All countries
4,720,051
Deaths
Updated on September 22, 2021 02:45

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर महिलाओ का नई दिल्ली में विरोध प्रदर्शन

संयुक्ता किसान मोर्चा, जो विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहा है। ने कहा कि यह सोमवार को टिकरी में 15,000 महिलाओं और सिंघू में 4,000 प्रदर्शनकारियों की अपेक्षा करता है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women Day) के मौके पर महिलाएं नई दिल्ली में विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

यह भी पढ़ें- ईंधन की कीमतों को लेकर हंगामे के बीच दो बार आरएस स्थगित

दिल्ली के पास टिकरी सीमा हजारों महिला किसान, छात्र व कार्यकर्ता पर जमा हो रहे हैं। जहां सेंट्रे के तीन खेत कानूनों के विरुद्ध एक विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। ये महिलाएं सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के विरोध में हिस्सा ले रही है ।

सोमवार सुबह टिकरी सीमा पर पहुंची एक महिला प्रदर्शनकारी ने कहा हम केंद्र सरकार से तीन काले कानूनों को वापस लेने का आग्रह करते हैं। महिला प्रदर्शनकारी अन्य सीमा बिंदुओं – गाजीपुर और सिंघू में भी मौजूद रहेंगी।

यह भी पढ़ें- ममता बनर्जी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर कोलकाता में एक पैदल मार्च करेंगी

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women Day)  मनाने के लिए, मंच का प्रबंधन महिलाओं द्वारा किया जाएगा और वक्ता भी महिलाएँ होंगी। सिंघू बॉर्डर पर एक छोटा मार्च होगा।

एसकेएम ने कहा कि आज सिंघू में 4,000, और टिकरी में 15,000 महिला प्रदर्शनकारियों की उम्मीद है। सितंबर में पारित कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे हो गए हैं।

18 महीने के लिए सरकार ने इन कानूनों को बंद रखने का वादा किया है। साथ ही किसानों के साथ 11 दौर की वार्ता भी की है। पर कोई सफलता नहीं मिली है। किसानों ने कहा है कि जब तक कानून वापस नहीं लिया जाता तब तक वे अपना विरोध समाप्त नहीं करेंगे।

सरकार ने अपने अतीत में बार-बार कहा कि ये कानून ऐतिहासिक हैं। और इससे छोटे किसानों को फायदा होगा। इन कानूनों की पेशकश के प्रमुख परिवर्तनों में से एक किसानों को अधिसूचित बाज़ार (मंडियों) के अलावा अपने उत्पादों को बेचने की स्वतंत्रता है।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि यह न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली को समाप्त कर देगा। जिससे उन्हें बड़े कॉर्पोरेट घरानों की दया पर रखा जाएगा। केंद्र ने यह आश्वासन दिया है कि एमएसपी जारी रहेगा। पर किसान इस पर कानूनी गारंटी चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED

%d bloggers like this: