Global Statistics

All countries
591,531,610
Confirmed
Updated on August 10, 2022 7:14 pm
All countries
561,689,111
Recovered
Updated on August 10, 2022 7:14 pm
All countries
6,442,648
Deaths
Updated on August 10, 2022 7:14 pm

Global Statistics

All countries
591,531,610
Confirmed
Updated on August 10, 2022 7:14 pm
All countries
561,689,111
Recovered
Updated on August 10, 2022 7:14 pm
All countries
6,442,648
Deaths
Updated on August 10, 2022 7:14 pm

Kajari Teej 2022: कजरी तीज कब है? जानिए तिथि, महत्व और पूजा की विधि

Kajari Teej Kab Hai 2022: तीज त्योहार उत्तर भारतीय राज्यों, विशेषकर राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार में महिलाओं द्वारा बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। सावन और भाद्रपद के महीनों के दौरान महिलाओं द्वारा मनाई जाने वाली तीन प्रसिद्ध तीज हरियाली तीज, कजरी तीज और तीसरी हरतालिका तीज हैं। हरियाली तीज 31 जुलाई को मनाई गई थी। हरियाली तीज के पंद्रह दिनों के बाद आने वाली अगली तीज को कजरी तीज (Kajari Teej) कहते हैं। कजरी तीज आमतौर पर रक्षा बंधन के तीन दिन बाद और कृष्ण जन्माष्टमी से पांच दिन पहले आती है। उत्तर भारतीय कलैण्डर के अनुसार यह भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष में और दक्षिण भारतीय कलैण्डर के अनुसार श्रावण मास के कृष्ण पक्ष में आता है। कजरी तीज को बड़ी तीज के नाम से भी जाना जाता है। कजरी तीज को कजली तीज या कजरी तीज (Kajari Teej) के नाम से भी जाना जाता है। कुछ क्षेत्रों में, कजरी तीज को सतुड़ी तीज के नाम से जाना जाता है। इस व्रत में शिव और माता पार्वती की पूजा करने का विधान है। इस वर्ष यह पर्व 14 अगस्त 2022 यानी रविवार के दिन मनाया जाएगा। आइए जानते हैं कजरी तीज तिथि पूजा मुहूर्त का महत्व और विधि के बारे में।

कजरी तीज 2022 तारीख

भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि प्रारंभ: 13 अगस्त, शनिवार, पूर्वाह्न 12:53 से
भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि समाप्त: 14 अगस्त रविवार रात 10:35 बजे
ऐसे में उदय तिथि के आधार पर इस बार कजरी तीज का पर्व 14 अगस्त को मनाया जाएगा।

कजरी तीज का महत्व

कजरी तीज राजस्थान का एक प्रमुख त्योहार है जो विवाहित और अविवाहित महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। विवाहित महिलाएं इस दिन एक दिन उपवास रखती हैं, अपने पति की लंबी उम्र, सफलता और समृद्धि के लिए प्रार्थना करती हैं, और अविवाहित महिलाएं अच्छे पति की प्रार्थना करती हैं। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है। यह व्रत करवा चौथ के समान ही होता है, लेकिन इस व्रत को खोलने के बाद भी महिलाएं भोजन नहीं करती हैं। इसके बजाय वे सत्तू, फल और दूध से अपना व्रत खोलती हैं। महिलाएं लोक गीत गाती हैं, पारंपरिक राजस्थानी संगीत पर नृत्य करती हैं और कहानियां साझा करती हैं। यह त्योहार चंद्रमा और नीम के पेड़ की पूजा के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है। यह प्रकृति और आकाशीय पिंडों के प्रति समर्पण को दर्शाता है।

कजरी तीज की पूजा विधि

भगवान गणेश की मूर्ति को चौकी पर रखें और उस पर गेहूं की परत बिछा दें।

अब तेल का दीपक जलाएं, जल के बाद भगवान गणेश को कुमकुम और फूल चढ़ाएं।

इसके बाद चौकी के चारों ओर कुमकुम, मेहंदी और काजल लगाएं। फिर नैवेद्य यानि प्रसाद का भोग लगाएं।

इसके बाद तीज पूजा के लिए आपको काजल, मेहंदी, कुमकुम, रोली, तेल का दीपक, पत्तियों के साथ एक नीम के पेड़ की टहनी, कुछ प्राकृतिक मिट्टी या मिट्टी, नींबू, ककड़ी, पानी के साथ एक कलश, एक नथ की आवश्यकता होगी।

मिट्टी से एक छोटा कुआं बनाएं और एक कोने में नीम की टहनी लगाएं।

इसमें कच्चा दूध और पानी इस तरह चढ़ाएं कि कुआं तरल से भर जाए।

फिर नीम के पौधे पर कुमकुम, मेहंदी, काजल और अक्षत चढ़ाएं और उसके बाद लाल चुनरी लगाएं।

चौकी के चारों कोनों पर कुमकुम, मेहंदी, काजल लगाएं।

फिर कुएं में सात वस्तुओं का प्रतिबिंब देखें। आप पूजा की कोई भी सात वस्तु जैसे नींबू, खीरा, नैवेद्य, सत्तू तेल का दीपक आदि चुन सकते हैं।

इसके बाद नीम के फूल की पूजा करें और फिर व्रत कथा सुनें।

महिलाएं गाय को भोजन कराकर, चंद्रमा को देखकर और चंद्र देव की पूजा करने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं।

चंद्रमा को ऐसे दें अर्घ्य

रात में कजरी तीज पर भी पूजा की जाती है और चंद्रमा को अर्घ्य दिया जाता है। चंद्रमा को अर्घ्य देते समय रोली, अक्षत (चावल) और मौली अर्पित करें। इसके बाद हाथ में चांदी की अंगूठी और गेहूं के दाने लेकर चंद्रमा को अर्घ्य देकर अपने स्थान पर खड़े होकर परिक्रमा करें।

यह भी पढ़ें –  Krishna Janmashtami 2022: कृष्ण जन्माष्टमी पूजा के दौरान इन मंत्रों का करें जाप, हर मनोकामना होगी पूर्ण

यह भी पढ़ें – Sawan 2022: सावन में अपने घर लाएं भोलेनाथ से जुड़ी ये 5 चीजें, बरसेगी महादेव की कृपा

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Hot Topics

Related Articles