Krishna Janmashtami

Krishna Janmashtami 2022: कृष्ण जन्माष्टमी भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है। इस बार यह पर्व 18 अगस्त को मनाया जाएगा। हर साल भगवान श्री कृष्ण की जयंती के रूप में यह पर्व पूरे देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। लोग कृष्ण की जयंती के दिन व्रत रखते हैं और रात के 12 बजे उनके जन्म के बाद कान्हा की पूजा कर व्रत का पारण करते हैं। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन लड्डू गोपाल को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के व्यंजन परोसे जाते हैं। उन्हें झूला झुलाया जाता है। वहीं धार्मिक शास्त्रों के अनुसार कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) के दिन कुछ काम नहीं करने चाहिए. नहीं तो कृष्ण जी की कृपा प्राप्त नहीं होती और पूजा का पूर्ण फल भी नहीं मिलता। आइए जानते हैं उन कार्यों के बारे में…

तुलसी के पत्ते न तोड़ें

श्री कृष्ण जी को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है और तुलसी विष्णु जी को बहुत प्रिय है। ऐसे में कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भूलकर भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए। पूजा में कृष्ण को अर्पित करने के लिए तुलसी को एक दिन पहले तोड़ लेना चाहिए, क्योंकि तुलसी के पत्तों को बासी नहीं माना जाता है।

चावल न खाएं

जिस प्रकार एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित है, उसी प्रकार जन्माष्टमी के दिन व्रत न करने पर भी चावल नहीं खाना चाहिए।

सात्विक भोजन करें

कृष्ण जन्माष्टमी के दिन केवल सात्विक भोजन करना चाहिए। इस दिन भोजन में लहसुन, प्याज का प्रयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि लहसुन प्याज को तामसिक श्रेणी में रखा जाता है। वहीं इस दिन भूलकर भी मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

गाय को नहीं सताना चाहिए

कान्हा को गाय बहुत प्रिय है। बचपन में वे ग्वाल-बाल के साथ गाय चराने जाते थे। इसलिए जन्माष्टमी या किसी अन्य दिन गाय और बछड़े को भूलकर भी न मारें,अन्यथा कृष्ण रुष्ट हो जाते हैं। गायों की सेवा करने से कृष्ण जी प्रसन्न होते हैं।

किसी का अपमान न करें

भगवान कृष्ण के लिए अमीर-गरीब सभी भक्त समान हैं, इसलिए कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भूलकर भी किसी का अपमान न करें। किसी गरीब का अपमान करने से श्री कृष्ण क्रोधित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें – Aja Ekadashi 2022: अजा एकादशी का व्रत कब है? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

यह भी पढ़ें – Bahula Chauth 2022: 15 अगस्त को है बहुला चौथ, जानिए पूजा की विधि, महत्व और शुभ मुहूर्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *