Global Statistics

All countries
594,375,416
Confirmed
Updated on August 13, 2022 3:25 pm
All countries
564,636,446
Recovered
Updated on August 13, 2022 3:25 pm
All countries
6,452,552
Deaths
Updated on August 13, 2022 3:25 pm

Global Statistics

All countries
594,375,416
Confirmed
Updated on August 13, 2022 3:25 pm
All countries
564,636,446
Recovered
Updated on August 13, 2022 3:25 pm
All countries
6,452,552
Deaths
Updated on August 13, 2022 3:25 pm

Sawan Somvar 2022: सावन का आखिरी सोमवार कब है? जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि

- Advertisement -
- Advertisement -

Last Sawan Somvar Vrat 2022: देवों के देव महादेव का प्रिय माह समाप्त होने वाला है। 14 जुलाई से शुरू हुआ सावन का महीना 12 अगस्त को खत्म होगा. वहीं सावन का चौथा और अंतिम सोमवार 8 अगस्त 2022 को है। सावन के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव की पूजा का विशेष महत्व है। सावन महीने का हर सोमवार शिव भक्तों के लिए बेहद खास माना जाता है। इस दिन शिव भक्त उपवास रखते हैं और अनुष्ठान पूजा करते हैं। ऐसा माना जाता है कि सावन के सोमवार (Sawan Somvar Vrat) का व्रत और पूजा करने से जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। अखंड सौभाग्य की कृपा लाने वाला सावन सोमवार भी समाप्त होने वाला है। भक्तों के पास महादेव को प्रसन्न करने के लिए केवल एक सोमवार शेष है। ऐसे में आपको इस दिन विशेष पूजा करनी चाहिए। आइए जानते हैं सावन के अंतिम सोमवार की पूजा विधि के बारे में…

सावन का आखिरी सोमवार कब है?

सावन माह के चौथे और अंतिम सोमवार का व्रत 8 अगस्त 2022 को रखा जाएगा। धार्मिक दृष्टि से यह दिन बेहद खास है, क्योंकि इस दिन सावन माह के शुक्ल पक्ष की पुत्रदा एकादशी का व्रत भी रहेगा। .

पूजा का शुभ मुहूर्त

सावन महीने का आखिरी सोमवार बेहद खास होता है। इस दिन रवि योग बन रहा है। इस दिन 8 अगस्त को सुबह 5:46 बजे रवि योग शुरू होगा और दोपहर 2:37 बजे तक चलेगा। ऐसा माना जाता है कि रवि योग में पूजा करना बहुत शुभ होता है।

सावन के अंतिम सोमवार को इस विधि से करें पूजा

सावन के चौथे सोमवार को प्रात: स्नान के बाद व्रत और शिव की पूजा करने का संकल्प लें। सुबह शुभ मुहूर्त में किसी शिव मंदिर में जाएं या घर ही शिवलिंग की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करें।

गंगाजल या दूध से शिव का अभिषेक करें। इसके बाद भगवान शिव शंभू को चंदन, अक्षत, सफेद फूल, बेलपत्र, भांग के पत्ते, शमी के पत्ते, धतूरा, भस्म और फूलों की माला चढ़ाएं।

इसके बाद शिव को शहद, फल, मिठाई, चीनी, धूप-दीप अर्पित करें। शिव चालीसा का पाठ करें और सोमवार व्रत कथा का पाठ करें। अंत में शिवलिंग के सामने घी का दीपक जलाएं और भोलेनाथ की आरती करें।

यह भी पढ़ें – Shiv Chalisa In Hindi: सावन में इस अचूक उपाय को करने से मिलते हैं अनगिनत अनोखे लाभ

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles