Masik Shivratri: मासिक शिवरात्रि 28 मई को है, जानिए कैसे मिलेगी शिव की कृपा

Masik Shivratri: हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को शिवरात्रि की पूजा की जाती है। हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को पड़ने वाली शिवरात्रि को मासिक शिवरात्रि भी कहा जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, कृष्ण पक्ष के दौरान चतुर्दशी तिथि को मनाए जाने वाले शिवरात्रि के इस व्रत को मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri) के रूप में जाना जाता है। इस बार ज्येष्ठ मास की त्रयोदशी 28 मई को पड़ रही है और इस दिन मासिक शिवरात्रि व्रत रखा जाएगा। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, महाशिवरात्रि की आधी रात को भगवान शिव लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। ऐसा माना जाता है कि शिव लिंग की सबसे पहले पूजा भगवान विष्णु और ब्रह्मा ने की थी। मासिक शिवरात्रि का व्रत करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव की कृपा से मासिक शिवरात्रि व्रत का पालन करने से असंभव और कठिन कार्यों को पूरा किया जा सकता है। आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजन विधि

मासिक शिवरात्रि तिथि

ज्येष्ठ, कृष्ण चतुर्दशी 28 मई 2022, शनिवार
शिवरात्रि प्रारंभ: 28 मई 2022 दोपहर 01:09 बजे
शिवरात्रि समाप्त: 29 मई 2022 दोपहर 02:54 बजे

मासिक शिवरात्रि का महत्व

मासिक शिवरात्रि व्रत शक्तिशाली और शुभ माना जाता है। इस व्रत को करने से स्त्री-पुरुष का जीवन सुखमय हो जाता है। ऐसा माना जाता है कि शिव मंत्र ॐ नमः शिवाय का दिन-रात जप करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। जो भक्त इस दिन व्रत रखता है, वह मोक्ष, मुक्ति प्राप्त करता है और स्वस्थ और समृद्ध जीवन व्यतीत करता है।

मासिक शिवरात्रि पर ऐसे करें पूजन

  • सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद साफ कपड़े पहन लें।
  • घर के मंदिर में दीपक जलाएं।
  • यदि घर में शिवलिंग हो तो गंगाजल, दूध आदि से शिवलिंग का अभिषेक करें।
    बेल पत्र भेंट करें।
  • भगवान शिव के साथ-साथ देवी पार्वती की भी पूजा करें।
  • भगवान भोले और मां पार्वती को प्रसाद चढ़ाएं।
  • भोलेनाथ का अधिक से अधिक ध्यान करें।
  • ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करें।
  • हवन करें और फिर भगवान शिव की आरती करें।

इन उपायों से प्रसन्न होंगे शिव

घर की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने और आने वाली परेशानियों से बचने के लिए भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए स्नान के बाद सफेद, हरे, पीले, लाल या आसमानी रंग के वस्त्र धारण कर पूजा करें।

पूजा में भगवान भोलेनाथ को अक्षत यानि चावल चढ़ाते समय इस बात का ध्यान रखें कि चावल खंडित यानि टूटा ना हो।

मासिक शिवरात्रि के दिन दही, सफेद कपड़े, दूध और चीनी का दान करना सबसे अच्छा माना जाता है, भगवान भोलेनाथ इन चीजों का दान करने से अपने भक्तों पर प्रसन्न होते हैं।

मासिक शिवरात्रि के दिन अक्षत, चंदन, धतूरा, दूध, आक, गंगाजल और बेलपत्र आदि का भोग लगाना चाहिए। इससे भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और अपना शुभ आशीर्वाद देते हैं।

यदि कोई व्यक्ति आर्थिक तंगी से गुजर रहा है तो उसे मासिक शिवरात्रि की शाम को कच्चे चावल में काले तिल मिलाकर दान करना चाहिए। इस उपाय से घर में धन-धान्य का भंडार भी भर जाएगा।

यह भी पढ़ें –  धन प्राप्ति और व्यापार में वृद्धि के लिए करें ये अचूक उपाय, घर हमेशा रहेगा धन-धान्य से भरपूर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update