Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

Papankusha Ekadashi 2021: पापांकुशा एकादशी के व्रत से नहीं होती यमलोक की पीड़ा, इस दिन रखें इन बातों का ध्यान

पापांकुशा एकादशी व्रत 2021: सभी एकादशी का हिंदू धर्म में अलग-अलग महत्व है। कहा जाता है कि सभी व्रतों में सबसे कठिन एकादशी है।

सभी एकादशी का हिंदू धर्म में अलग-अलग महत्व है। कहा जाता है कि सभी व्रतों में सबसे कठिन एकादशी है। आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी के नाम से जाना जाता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, यह एकादशी पापों का नाश करती है। और व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा (एकादशी के दिन भगवान विष्णु पूजा) और व्रत करने से जीवन में यश की प्राप्ति होती है। और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। इस बार यह एकादशी 16 अक्टूबर (16 अक्टूबर एकादशी) को पड़ रही है। एकादशी का व्रत द्वादशी तिथि से शुरू होकर एकादशी के अगले दिन सूर्योदय तक रहता है। एकादशी के व्रत में व्रत तोड़ना भी महत्वपूर्ण है। आइए जानते हैं एकादशी व्रत के फायदे और इस दिन किन बातों का रखें ध्यान —

पापांकुशा एकादशी के लाभ

आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। इस एकादशी का भी बहुत महत्व है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति इस दिन व्रत रखता है। उसे नरक की प्राप्ति नहीं होती है। इतना ही नहीं उन्हें किसी भी प्रकार के यमलोक का कष्ट नहीं सहना पड़ता। पापांकुशा एकादशी का व्रत करने से सभी प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है। व्रत रखने वाले व्यक्ति को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि एकादशी के एक दिन पहले दशमी के दिन से गेहूं, उड़द, मूंग, चना, जौ, चावल और दाल का सेवन बंद कर देना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन व्रत करने से पितरों को भी पापों से मुक्ति मिलती है। और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

पापांकुशा एकादशी पर क्या करें

पापांकुशा एकादशी के दिन बहुत सी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। कहते हैं इस दिन दीपक जलाकर विष्णु सहस्त्र नाम का पाठ करें। वहीं अगर आप जाप नहीं कर सकते तो गुरुमंत्र की 10 माला जाप करें। एकादशी का व्रत करने वालों को दशमी की शाम से ही व्रत का पालन करना शुरू कर देना चाहिए। और एकादशी के अगले दिन सूर्योदय के बाद हरि वासर में ही व्रत तोड़ना चाहिए। व्रत की पूजा करने के बाद भगवान विष्णु को पीली मिठाई का भोग लगाएं। और ध्यान रहे कि भोग में तुलसी के पत्ते जरूर शामिल करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED