Global Statistics

All countries
622,980,641
Confirmed
Updated on October 1, 2022 1:08 pm
All countries
601,282,610
Recovered
Updated on October 1, 2022 1:08 pm
All countries
6,549,341
Deaths
Updated on October 1, 2022 1:08 pm

Global Statistics

All countries
622,980,641
Confirmed
Updated on October 1, 2022 1:08 pm
All countries
601,282,610
Recovered
Updated on October 1, 2022 1:08 pm
All countries
6,549,341
Deaths
Updated on October 1, 2022 1:08 pm

Rakshabandhan Kab Hai 2022: 11 या 12 अगस्त को कब मनाएं रक्षा बंधन? क्या कहता है शास्त्र और पंचांग गणना

- Advertisement -

Rakshabandhan Kab Hai 2022: रक्षा बंधन का त्योहार हर साल सावन पूर्णिमा तिथि और भद्रारहित काल में मनाया जाता है। लेकिन इस साल रक्षाबंधन की तारीख को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। कुछ पंडितों और ज्योतिषियों का कहना है कि इस बार रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्त को मनाना शुभ रहेगा, तो कुछ का कहना है कि 12 अगस्त को राखी मनाना उत्तम रहेगा। दरअसल जब कभी भी हिंदू धर्म में कोई व्रत या त्योहार की तिथि दो दिन पड़ती है तो इसको लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है। इस बार भी रक्षाबंधन पर पूर्णिमा तिथि दो दिन रहने के कारण लोगों के मन में संशय है कि राखी का त्योहार कब मनाएं। तिथि को लेकर पंडित और ज्योतिषी भी रक्षाबंधन की तारीख को लेकर अलग-अलग सलाह दे रहे हैं। तिथि के अलावा इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा का भी साया है। 11 अगस्त को पूरे दिन भद्रा रहेगी। शास्त्रों के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व हमेशा भद्रा रहित समय में ही मनाना चाहिए। ऐसे में आइए जानते हैं 11 और 12 अगस्त को क्या कहता है पंचांग और शास्त्रानुसार किसी दिन राखी का त्योहार मनाना रहेगा उचित?

11 अगस्त को पूरे दिन भद्रा रहेगी

शास्त्रों के अनुसार दिन का कुछ समय शुभ कार्यों के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। इसमें भद्राकाल और राहुकाल प्रमुख हैं। इस बार 11 अगस्त को सावन पूर्णिमा तिथि और श्रवण नक्षत्र के साथ पूरे दिन भद्रकाल रहेगा। 11 अगस्त को भद्रा का अशुभ समय रात 08:53 बजे समाप्त होगा।

11 अगस्त को धरती पर नहीं रहेंगे भद्रा

वैसे तो भद्रा 11 अगस्त को पूर्णिमा तिथि की शुरुआत के साथ शुरू होगी, लेकिन भद्रा का वास पाताल लोक में रहेगा। मुहूर्त शास्त्र चिंतामणि के अनुसार, जब भद्रा पृथ्वी पर निवास करती है, तो इस अवधि के दौरान शुभ कार्य नहीं किए जा सकते हैं, लेकिन यही भद्रा जब पाताललोक में निवास करे तो इसका असर पृथ्वी वासियों के ऊपर नहीं होता है। भद्रा जिस लोक में निवास करती हैं उसका असर उसी लोक में रहता है। ऐसे में 11 अगस्त को भद्रा का निवास पृथ्वी पर नहीं है इसलिए 11 अगस्त को रक्षा बंधन मनाया जा सकता है।

कैलेंडर गणना के अनुसार जब भी चंद्रमा कर्क, सिंह, कुंभ और मीन राशि में भ्रमण करता है तो भद्रा का साया पृथ्वी पर होता है। वहीं जब चंद्रमा मेष, वृष और वृश्चिक राशि में भ्रमण करता है तो भद्रा स्वर्ग में निवास करती है। जब चंद्रमा कन्या, तुला, धनु और मकर राशि में होता है भद्रा का वास पाताल लोक में होता है। शास्त्रों के अनुसार जब भद्रा स्वर्ग या पाताल में वास करती है तो कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता। ऐसे में 11 अगस्त को पाताल लोक में भद्रा का वास होने के कारण इस दिन रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाना चाहिए।

12 अगस्त को क्यों न मनाएं रक्षाबंधन

सावन पूर्णिमा तिथि पर रक्षाबंधन मनाने की परंपरा है। पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त को सुबह 10.38 बजे से शुरू होगी, जो अगले दिन यानी 12 अगस्त को सुबह 07:05 बजे तक चलेगी, उसके बाद भाद्रपद की प्रतिपदा तिथि शुरू होगी। इसलिए 12 अगस्त को रक्षाबंधन मनाने के पीछे कोई खास तर्क नहीं है।

11 अगस्त रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त

मुहूर्त गणना के अनुसार 11 अगस्त को सुबह 11.37 बजे से 12.29 बजे तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा। गुरुवार 11 अगस्त को दोपहर 02:14 से 03:07 बजे तक विजय मुहूर्त रहेगा। ऐसे में भद्राकाल में इस समय राखी बांधी जा सकती है।

रक्षाबंधन पर भद्रा

रक्षा बंधन भद्रा मुख: सुबह 06.18 बजे से 08:00 बजे तक
रक्षा बंधन भद्रा काल समाप्त: रात 08.51 बजे

चौघडिया शुभ मुहूर्त- 11 अगस्त 2022
शुभ प्रात: 06 -7.39
चर दिन: 10.53- 12.31
लाभ दिन: 12.31- 02.8
अमृत दिन: 02.08- 03.46
शुभ सायं: 05.23- 07.1
अमृत रात्रि: 07.00-08.23
चर रात्रि: 08.23-09.46
वृश्चिक लग्न दिन:01.33- 03.23

रक्षाबंधन 2022 प्रदोष मुहूर्त
प्रदोष मुहूर्त: 20:52:15 से 21:13:18

यह भी पढ़ें – Rakshabandhan Shubh Muhurat 2022: रक्षाबंधन के दिन भद्रा के कारण किस मुहूर्त में बांधे राखी, जानिए राखी बांधने का सही समय

यह भी पढ़ें – Rakshabandhan 2022: राखी बांधते समय इन नियमों का पालन करना है जरूरी, तभी मिलेगा शुभ फल

(Rakshabandhan Kab Hai)

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles