Global Statistics

All countries
593,604,221
Confirmed
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
563,911,767
Recovered
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
6,449,688
Deaths
Updated on August 13, 2022 2:23 am

Global Statistics

All countries
593,604,221
Confirmed
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
563,911,767
Recovered
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
6,449,688
Deaths
Updated on August 13, 2022 2:23 am

Sawan Shivratri 2022 Fasting Rules: सावन शिवरात्रि पर गलती से भी न करें ये काम, जानिए इस व्रत से जुड़े नियम

- Advertisement -
- Advertisement -

Sawan Shivratri Fasting Rules: हिंदू कैलेंडर में हर साल 12 शिवरात्रि होती हैं, लेकिन इनमें से दो शिवरात्रि को विशेष महत्व दिया जाता है। इनमें से सबसे प्रमुख फाल्गुन मास की शिवरात्रि मानी जाती है, जिसे महाशिवरात्रि भी कहा जाता है। इसके अलावा दूसरी महत्वपूर्ण शिवरात्रि सावन की मानी जाती है। इस दिन विधि विधान से भगवान शिव की पूजा की जाती है। सनातन धर्म में श्रावण मास की महिमा का वर्णन किया गया है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने वाले और पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों पर महादेव प्रसन्न होते हैं और उन्हें उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है। लोगों पर भगवान शिव की कृपा बनी रहती है। इनके जीवन में कभी भी सुख-समृद्धि की कमी नहीं होती है। सावन शिवरात्रि के व्रत में कुछ ऐसी चीजें हैं जो गलती से भी नहीं करनी चाहिए। सावन शिवरात्रि पर भगवान शिव पर जल चढ़ाने और खानपान संबंधी कुछ विशेष नियम है। कल 26 जुलाई को सावन शिवरात्रि पड़ रही है। सावन शिवरात्रि पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करना शुभ होता है। आइए जानते हैं क्या हैं इन व्रतों से जुड़े नियम।

Sawan Shivratri Fasting Rules –

सावन शिवरात्रि पर इस सामग्री से करें पूजन

सावन शिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ की पूजा के लिए इन सामग्रियों का उपयोग करना चाहिए। फूल, पांच फल, पांच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगाजल, पवित्र जल, पांच रस, इत्र, गंध, रोली, मौली, जनेऊ, पांच मिठाई, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, मंदार के फूल, कच्ची गाय का दूध, कपूर, धूप, दीपक, कपास, चंदन, शिव और माता पार्वती के श्रृंगार के लिए सामग्री आदि।

सावन शिवरात्रि व्रत के नियम

सावन शिवरात्रि का व्रत करने वाले व्यक्ति को ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए पूरे दिन फलाहार व्रत रखना चाहिए। किसी भी प्रकार के नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।

अगर आप व्रत नहीं भी कर रहे हैं तो भी आपको गेहूं, चावल, बेसन और मैदा आदि से बनी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन शिवरात्रि में सात्विक भोजन करना चाहिए। प्याज, लहसुन आदि नहीं खाना चाहिए।

सावन शिवरात्रि के दौरान मांस और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

व्रत करने वाले को दिन में नहीं सोना चाहिए अन्यथा व्रत सफल नहीं होगा।

व्रत करने वाले व्यक्ति को किसी से गाली-गलौज, विवाद आदि नहीं करना चाहिए।

इस व्रत का एक विशेष नियम यह भी है कि विशेष परिस्थितियों में सावन शिवरात्रि की रात 01.15 बजे के बाद समय पारण कर सकते हैं।

सामान्य परिस्थितियों में सूर्यास्त के बाद दो घंटे के भीतर पारण करना चाहिए।

सावन शिवरात्रि के दिन जितना हो सके भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें – Nag Panchami 2022 Mantra: नागदेवता को नाग पंचमी के दिन करें इन मंत्रों से प्रसन्न, पा सकते हैं शुभ फल

यह भी पढ़ें – Sarpa Suktam Path: कालसर्प दोष को दूर करने के लिए नाग पंचमी के दिन जरूर करें श्री सर्पसूक्त का पाठ

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles