Global Statistics

All countries
593,604,221
Confirmed
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
563,911,767
Recovered
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
6,449,688
Deaths
Updated on August 13, 2022 2:23 am

Global Statistics

All countries
593,604,221
Confirmed
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
563,911,767
Recovered
Updated on August 13, 2022 2:23 am
All countries
6,449,688
Deaths
Updated on August 13, 2022 2:23 am

Sawan Somvar 2022: सावन के तीसरे सोमवार को बन रहा है खास संयोग, इस दिन पूजा से मिलेगा दोगुना लाभ

- Advertisement -
- Advertisement -

Sawan Somvar 2022: सावन का महीना शुरू हो गया है। 14 जुलाई से शुरू हुआ यह महीना 12 अगस्त 2022 को समाप्त होगा। सावन का महीना भगवान शिव को बहुत प्रिय है। इसके अलावा इस महीने के सोमवार को शिव और जलाभिषेक की पूजा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। इस साल सावन के महीने में चार सोमवार हैं, जिनमें से दो सोमवार बीत चुके हैं। पहला सोमवार 18 जुलाई और दूसरा सोमवार 25 जुलाई था। अब शिव भक्त तीसरे सोमवार का इंतजार कर रहे हैं। इस महीने का तीसरा सोमवार 1 अगस्त को है। हिन्दू पंचांग के अनुसार तीसरे सोमवार को विशेष संयोग बन रहे हैं। सावन के तीसरे सोमवार (Sawan Somvar) को विनायक चतुर्थी पड़ रही है। इसके अलावा भी कई योग बन रहे हैं। तो आइए जानते हैं क्यों है इस बार सावन माह का तीसरा सोमवार इतना खास…

तीसरे सोमवार को बन रहा है खास संयोग

इस बार सावन का तीसरा सोमवार 1 अगस्त 2022 को है। सावन मास की विनायक चतुर्थी भी इसी दिन है। इसके अलावा इस दिन शिव योग और रवि योग का योग बन रहा है। ऐसे में इस दिन पूजा करने से शिव जी के साथ भगवान गणेश की भी कृपा प्राप्त होगी।

सावन सोमवार पूजा विधि

सावन के तीसरे सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। सावन सोमवार के दिन सबसे पहले जल्दी उठकर स्नान कर साफ कपड़े पहन लें। इसके बाद घर में बने मंदिर में रखी भगवान शिव की मूर्ति के सामने हाथ जोड़कर व्रत का संकल्प लें।

इसके बाद अपने घर के पास के किसी शिव मंदिर में जाएं और वहां गंगाजल, दूध और पंचामृत से शिवलिंग का जलाभिषेक करें। फिर सभी पूजा सामग्री भगवान भोलेनाथ को अर्पित करें।

अंत में भगवान शिव और माता पार्वती की मूर्ति के नीचे घी का दीपक जलाकर पूजा प्रारंभ करें। दीप अर्पित करने के बाद सावन सोमवार व्रत की कथा पढ़ें।

पूजा के दौरान भगवान शिव के विभिन्न मंत्रों का जाप करना भी आवश्यक है और अंत में भगवान शिव और माता पार्वती की आरती करें।

यह भी पढ़ें – Hariyali Teej Aarti: अविवाहित लड़कियां हरियाली तीज पर जरूर करें मां पार्वती की आरती, मनचाहा वर मिलेगा

Leave a Reply

spot_imgspot_img
spot_img

Latest Articles