Global Statistics

All countries
648,755,570
Confirmed
Updated on December 2, 2022 7:05 pm
All countries
624,838,872
Recovered
Updated on December 2, 2022 7:05 pm
All countries
6,643,011
Deaths
Updated on December 2, 2022 7:05 pm

Global Statistics

All countries
648,755,570
Confirmed
Updated on December 2, 2022 7:05 pm
All countries
624,838,872
Recovered
Updated on December 2, 2022 7:05 pm
All countries
6,643,011
Deaths
Updated on December 2, 2022 7:05 pm

Lakshmi Chalisa: मां लक्ष्मी की चालीसा से दूर होगी दरिद्रता, कभी नहीं होगी धन की कमी

- Advertisement -

Shri Lakshmi Chalisa: हिंदू धर्म में शुक्रवार का दिन देवी लक्ष्मी को समर्पित है। इस दिन धन और समृद्धि की देवी मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। शुक्रवार के दिन लोग विशेष रूप से व्रत रखते हैं और मां वैभव लक्ष्मी की पूजा करते हैं। इस दिन विधि-विधान से मां लक्ष्मी की पूजा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। ऐसा माना जाता है कि हर शुक्रवार को देवी लक्ष्मी की पूजा और मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति के घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है। इसके अलावा देवी लक्ष्मी की मूर्तिके सामने घी का दीपक जलाकर लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने से घर में धन और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यहां लक्ष्मी चालीसा के लिरिक्स दिए जा रहे हैं, जिसके जरिए आप इसे आसानी से पढ़ सकते हैं…

यह भी पढ़ें – Jagannath Ji Aarti: जगन्नाथ रथ यात्रा शुरू, मनोकामना पूर्ण करने के लिए करें श्री जगन्नाथ की आरती

यह भी पढ़ें – Santoshi Mata Ki Aarti: बस शुक्रवार के दिन करें ये छोटा सा काम, संतोषी माता की कृपा से होगी हर मनोकामना

श्री लक्ष्मी चालीसा | Shri Lakshmi Chalisa:

॥ दोहा ॥
मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥
सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।
ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥

श्री लक्ष्मी चालीसा
तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरवहु आस हमारी॥
जय जय जगत जननि जगदंबा सबकी तुम ही हो अवलंबा॥1॥

तुम ही हो सब घट घट वासी। विनती यही हमारी खासी॥
जगजननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी॥2॥

विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी॥
केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी॥3॥

कृपा दृष्टि चितववो मम ओरी। जगजननी विनती सुन मोरी॥
ज्ञान बुद्घि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता॥4॥

क्षीरसिन्धु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिन्धु में पायो॥
चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभु बनि दासी॥5॥

जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रुप बदल तहं सेवा कीन्हा॥
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा॥6॥

तब तुम प्रगट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥
अपनाया तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी॥7॥

तुम सम प्रबल शक्ति नहीं आनी। कहं लौ महिमा कहौं बखानी॥
मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन इच्छित वांछित फल पाई॥8॥

तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मनलाई॥
और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करै मन लाई॥9॥

ताको कोई कष्ट नोई। मन इच्छित पावै फल सोई॥
त्राहि त्राहि जय दुःख निवारिणि। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणी॥10॥

जो चालीसा पढ़ै पढ़ावै। ध्यान लगाकर सुनै सुनावै॥
ताकौ कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै॥11॥

पुत्रहीन अरु संपति हीना। अन्ध बधिर कोढ़ी अति दीना॥
विप्र बोलाय कै पाठ करावै। शंका दिल में कभी न लावै॥12॥

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपा करैं गौरीसा॥
सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै। कमी नहीं काहू की आवै॥13॥

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन्य और नहिं दूजा॥
प्रतिदिन पाठ करै मन माही। उन सम कोइ जग में कहुं नाहीं॥14॥

बहुविधि क्या मैं करौं बड़ाई। लेय परीक्षा ध्यान लगाई॥
करि विश्वास करै व्रत नेमा। होय सिद्घ उपजै उर प्रेमा॥15॥

जय जय जय लक्ष्मी भवानी। सब में व्यापित हो गुण खानी॥
तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयालु कहुं नाहिं॥16॥

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजै॥
भूल चूक करि क्षमा हमारी। दर्शन दजै दशा निहारी॥17॥

बिन दर्शन व्याकुल अधिकारी। तुमहि अछत दुःख सहते भारी॥
नहिं मोहिं ज्ञान बुद्घि है तन में। सब जानत हो अपने मन में॥18॥

रुप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण॥
केहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्घि मोहि नहिं अधिकाई॥19॥

॥ दोहा॥
त्राहि त्राहि दुख हारिणी, हरो वेगि सब त्रास। जयति जयति जय लक्ष्मी, करो शत्रु को नाश॥
रामदास धरि ध्यान नित, विनय करत कर जोर। मातु लक्ष्मी दास पर, करहु दया की कोर॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Shattila Ekadashi Kab Hai 2023: षटतिला एकादशी कब है? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

Shattila Ekadashi Kab Hai 2023: माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान...

Magh Month 2023: माघ मास में स्नान के क्या हैं नियम? जानिए क्या करें और क्या न करें?

Magh Month 2023: माघ मास की शुरुआत हो चुकी है। माघ का महीना हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। धार्मिक मान्यता...

Love Rashifal 9 January 2023: आपके प्यार और दांपत्य जीवन के लिए कैसा रहेगा आज का दिन

आज का लव राशिफल 9 जनवरी 2023 (Aaj Ka Love Rashifal 9 January 2023): मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर,...

Lohri 2023 Date: 13 या 14 जनवरी, इस साल कब है लोहड़ी? जानिए सटीक तारीख और इससे जुड़ी खास बातें

Lohri Kab Hai 2023: मकर संक्रांति की तरह लोहड़ी भी उत्तर भारत का एक प्रमुख त्योहार है। यह विशेष रूप से पंजाब और हरियाणा...

Related Articles

Shattila Ekadashi Kab Hai 2023: षटतिला एकादशी कब है? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

Shattila Ekadashi Kab Hai 2023: माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान...

Magh Month 2023: माघ मास में स्नान के क्या हैं नियम? जानिए क्या करें और क्या न करें?

Magh Month 2023: माघ मास की शुरुआत हो चुकी है। माघ का महीना हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। धार्मिक मान्यता...

Love Rashifal 9 January 2023: आपके प्यार और दांपत्य जीवन के लिए कैसा रहेगा आज का दिन

आज का लव राशिफल 9 जनवरी 2023 (Aaj Ka Love Rashifal 9 January 2023): मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर,...

Lohri 2023 Date: 13 या 14 जनवरी, इस साल कब है लोहड़ी? जानिए सटीक तारीख और इससे जुड़ी खास बातें

Lohri Kab Hai 2023: मकर संक्रांति की तरह लोहड़ी भी उत्तर भारत का एक प्रमुख त्योहार है। यह विशेष रूप से पंजाब और हरियाणा...

Love Rashifal 7 January 2023: आपके प्यार और दांपत्य जीवन के लिए कैसा रहेगा आज का दिन

आज का लव राशिफल 7 जनवरी 2023 (Aaj Ka Love Rashifal 7 January 2023): मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर,...