Global Statistics

All countries
229,956,967
Confirmed
Updated on September 21, 2021 19:42
All countries
204,924,501
Recovered
Updated on September 21, 2021 19:42
All countries
4,716,160
Deaths
Updated on September 21, 2021 19:42

Global Statistics

All countries
229,956,967
Confirmed
Updated on September 21, 2021 19:42
All countries
204,924,501
Recovered
Updated on September 21, 2021 19:42
All countries
4,716,160
Deaths
Updated on September 21, 2021 19:42

स्किन टू स्किन टच , नो सेक्सुअल असॉल्ट: बॉम्बे उच्च न्यायालय का फैसला, खतरनाक मिसाल बन जाता

बंबई उच्च न्यायालय का फैसला स्किन टू स्किन टच, नो सेक्सुअल असॉल्ट’ खतरनाक मिसाल बन जाता। स्किन टू स्किन टच, नो सेक्सुअल असॉल्ट’ का मतलब त्वचा से त्वचा का संपर्क हुए बिना नाबालिग पीड़िता के स्तन को स्पर्श करना यौन अपराध की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता है।

पॉक्सो एक्ट के तहत बंबई उच्च न्यायालय ने इस मामले को मानने से मना कर दिया था। इस फैसले के बाद से पूरे देश में यह चर्चा का विषय बन गया था। लेकिन अब इस आदेश पर सर्वोच्च न्यायालय ने स्टे लगा दिया।

यह भी पढ़े- Online Rummy: हाईकोर्ट ने विराट कोहली-तमन्ना भाटिया को भेजा नोटिस

मामले की सुनवाई के वक्त एडवोकेट जनरल ने कहा बंबई उच्च न्यायालय का फैसला खतरनाक मिसाल बन जाता।

स्किन टू स्किन टच, नो सेक्सुअल असॉल्ट का फैसला छेड़छाड़ के मामलो में आरोपी इस तरह का हवाला देकर बच जाता। इससे न केवल नाबालिग बच्चियों बल्कि युवतियों और महिलाओं की आवाज को नहीं दबा दिया जाता।

आपको बता दे की दिसंबर 2016 के वक्त सतीश, नागपुर में लड़की को खाने का सामान दिखाकर अपने घर ले जाकर उसके वक्ष को पकड़ा और उसे निर्वस्त्र करने की कोशिश की।

यह भी पढ़े- देखे तश्वीरे: लाल किला में की तोड़फोड़, मचाया उत्पाद, 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल

बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने इस मामले 24 जनवरी को सुनवाई की। लेकिन अदालत ने कहा की इस तरह की घटना को योन श्रेणी में तभी माना जाएगा जब स्किन टू स्किन मतलब त्वचा से त्वचा का संपर्क हुआ हो। अदालत ने कहा केवल जबरन छूना व किसी नाबालिग को निर्वस्त्र किए बिना उसके वक्षस्थल को छूना योन नहीं कहा जा सकता।

पॉक्सो अधिनियम के तहत इसे यौन हमले के रूप में नहीं कहा जा सकता। इस फैसले के बाद पुरे देश में चर्चा होने लगी। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध जताया।

बाल आयोग ने इस मामले पर संज्ञान लिया और राज्य सरकार को सुप्रीम कोर्ट में अपील करने के लिए कहा। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। सुनवाई के वक्त बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले को एडवोकेट जनरल ने खतरनाक मिसाल बताया।

यह भी पढ़े- संयुक्त किसान मोर्चे ने कहा रैली में असामाजिक तत्व घुस आए और निंदनीय कृत्य किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED

%d bloggers like this: