सोशल मीडिया क्या है | Social Media Kya Hai | सोशल मीडिया के प्रकार

सोशल मीडिया क्या है | Social Media Kya Hai: सोशल मीडिया का मतलब सोशल कम्युनिकेशन के जरिए लोगों से जुड़ना है। ये बिलकुल फिजिकल नेटवर्क की तरह है, बस फिजिकल ऑनलाइन में होता है। चूंकि वर्तमान युग ऑनलाइन है, इसलिए लोग इस सोशल मीडिया का उपयोग आपस में संवाद करने, संपर्क बढ़ाने या अपनी पसंदीदा चीजों और सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए करते हैं।

सरल भाषा में कहें तो ऐसा होता है कि कुछ वेबसाइट जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और अन्य नेटवर्क हैं। हम नेटवर्क के बारे में जानते हैं, अगर हम नहीं जानते हैं, तो यह और कुछ नहीं बल्कि अन्य चीजों से जुड़ना है। उदाहरण के लिए, जैसे ब्लॉगिंग का नेटवर्क, व्यवसाय का नेटवर्क।

इसलिए आज मैंने सोचा कि क्यों न आप लोगों को पता चले कि सोशल मीडिया क्या है और यह कैसे हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। बस इसी बात की पूरी जानकारी देने के लिए आज मैंने इस टॉपिक को चुना है तो देर किस बात की, चलिए शुरू करते हैं।

सोशल मीडिया क्या है?

सोशल मीडिया को सोशल मीडिया सर्विस के नाम से भी जाना जाता है। इसका मतलब है इंटरनेट का उपयोग करके अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से जुड़ना। जहां आप एक दूसरे के साथ दोस्ती, रिश्ते, शिक्षा, रुचियों का आदान-प्रदान करते हैं।

इससे हम देश-विदेश में हो रही घटनाओं के बारे में जान सकते हैं। इससे हम एक-दूसरे की रुचियों के बारे में जान सकते हैं और उन्हें एक्सप्लोर भी कर सकते हैं।

सोशल मीडिया की परिभाषा

सोशल मीडिया को उन वेबसाइटों और अनुप्रयोगों की सुविधा के रूप में समझा जाता है जो हम आप जैसे उपयोगकर्ताओं को प्रदान करते हैं, ताकि हम और आप आसानी से अपनी और दूसरों की सामग्री बना और साझा कर सकें।

सोशल मीडिया बेसिक

आम तौर पर, सोशल मीडियािंग सेवाएं उपयोगकर्ताओं को एक प्रोफ़ाइल बनाने की अनुमति देती हैं। हम इन्हें मुख्य रूप से दो व्यापक श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं।

1)आंतरिक सोशल मीडिया (आईएसएन) | Internal Social Media (ISN)
2) बाहरी सोशल मीडिया (ईएसएन) | External Social Media (ESN)

आंतरिक सोशल मीडिया (आईएसएन)

आईएसएन मुख्य रूप से बंद है और निजी समुदाय जहां छोटी राशि या कम मात्रा में लोग जुड़े हुए हैं, यह उन्हीं लोगों के बीच एक समुदाय की तरह है। यहां इस नेटवर्क में शामिल होने के लिए “निमंत्रण” की आवश्यकता है। और आप आमंत्रण मिलने के बाद ही उनसे जुड़ सकते हैं।

उदाहरण के लिए, कोई एजुकेशन ग्रुप, फोटोग्राफी ग्रुप या हैकिंग कम्युनिटी या कोई सीक्रेट फोरम।

बाहरी सोशल मीडिया (ईएसएन) | External Social Media (ESN)

जबकि ईएसएन मुख्य रूप से खुला और सार्वजनिक समुदाय है, जहां लोग बड़ी मात्रा में या बड़े धरण से जुड़े होते हैं, यह भी इन लोगों के बीच एक समुदाय की तरह है। यहां कोई भी इस नेटवर्क से जुड़ सकता है जो इससे जुड़ना चाहता है।

यह मुख्य रूप से विज्ञापनदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करता है क्योंकि यहाँ ट्रैफिक अधिक है। उपयोगकर्ता यहां अपनी तस्वीर जोड़ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ “दोस्त” भी बन सकते हैं। उदाहरण के लिए फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, माइस्पेस, आस्क आदि।

अक्सर सोशल मीडिया में जब तक कोई यूजर दूसरे लोगों को कंफर्म नहीं करता, तब तक उन्हें आपस में नहीं जोड़ा जा सकता।

सोशल मीडिया की विशेषताएं

सोशल मीडिया सेवाएं मुख्य रूप से वेब आधारित सेवाएं हैं। जो लोगों को एक सीमित प्रणाली के भीतर एक सार्वजनिक या अर्ध-सार्वजनिक प्रोफ़ाइल बनाने की अनुमति देता है। इससे उन्हें यह सुविधा मिलती है कि कैसे उन्हें अपनी सामग्री को दूसरों के साथ साझा करने की सुविधा मिलती है।

इन कनेक्शनों की प्रकृति और नामकरण एक साइट से दूसरी साइट में भिन्न होता है। साथ ही यह हमें आपस में मिलने में मदद करता है और जो बातें हम अपनी आवाज से नहीं बता पाते हैं, उसकी मदद से हम उस संदेश को दूसरों तक पहुंचा सकते हैं।

इसे बिजनेस मॉडल के रूप में कैसे उपयोग किया जाता है?

यह बात हम भली भांति जानते हैं कि जहां अच्छा ट्रैफिक होता है वहां अच्छा बिजनेस मॉडल तैयार किया जा सकता है। उसी तरह सोशल नेटवर्क पर पेज और ग्रुप का कॉन्सेप्ट भी है। अगर आपके अकाउंट में और भी लोग हैं तो आप उसे एक पेज में कन्वर्ट कर सकते हैं।

इससे विज्ञापनदाता आपके उन पेजों पर अपने विज्ञापन डालने के लिए आपसे संपर्क कर सकते हैं। इस तरह आप अपने सोशल अकाउंट पर एक अच्छा बिजनेस बना सकते हैं।

सोशल मीडिया के प्रकार

आइए अब समझते हैं कि आखिर सोशल मीडिया कितने प्रकार का होता है:-

व्यवसाय एप्लिकेशन

उद्यमियों और छोटे व्यवसायों के लिए सोशल मीडिया का सही तरीके से उपयोग करना बहुत फायदेमंद है। इससे वह कई लोगों के साथ अपना बिजनेस बढ़ा सकता है। वे अपने उत्पादों का विज्ञापन करने के लिए सोशल मीडिया का भी उपयोग कर सकते हैं।

क्योंकि सोशल मीडिया पूरी दुनिया में काम करता है, इसलिए इसकी मदद से हम दुनिया के किसी भी देश में स्थित लोगों से संपर्क कर सकते हैं और अपने व्यापार को बढ़ा सकते हैं।

मेडिकल एप्लीकेशन

कई स्वास्थ्य पेशेवर अपने संस्थागत ज्ञान का प्रबंधन करने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं। इससे वे अपने डॉक्टरों और संस्थानों को लोगों के सामने उजागर कर सकते हैं। इससे वे अपने ज्ञान को अन्य लोगों के साथ भी साझा कर सकते हैं।

रिसर्च

सोशल मीडिया सेवाओं का उपयोग अब आपराधिक और कानूनी जांच के लिए किया जा रहा है। माइस्पेस और फेसबुक जैसी साइटों में स्थित जानकारी का उपयोग पुलिस द्वारा जांच में किया जाता है।

सामाजिक भलाई के लिए सोशल मीडिया का उपयोग

बहुत सी सोशल सर्विसेस सोशल मीडिया का सही तरीके से उपयोग करती हैं क्योंकि वे अच्छी तरह जानते हैं कि सोशल मीडिया पर बहुत सारे लोग आते हैं और अच्छे पोस्ट की तलाश में रहते हैं। इसी के साथ अगर उनसे उनकी समाज सेवा के बारे में बात की जाए तो कुछ लोग उनके इस नेक काम में शामिल होने के लिए राजी हो सकते हैं।

इससे उनके दर्शकों की संख्या और भी बढ़ जाती है और उनके फॉलोअर्स भी। अधिक समान विचारधारा वाले लोगों (समान सोच के लोग) के साथ मिलकर काम करके वे कई असंभव प्रतीत होने वाले लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। और इस समाज के लिए कुछ अलग और बेहतर कर सकते हैं।

सोशल मीडिया का उपयोग करने के जोखिम

जहां सोशल मीडिया का उपयोग हमें कई संभावनाओं का लाभ उठाने में मदद करता है जैसे कि हमारे दोस्तों के साथ संपर्क बढ़ाना, दुनिया के बारे में करीब से जानना, संस्कृतियों के बारे में जानना, लंबी दूरी के रिश्ते आदि। साथ ही, यह कई ऐसे जोखिम यह साथ लाता है। जिनके बारे में जानना हमारे लिए बेहद जरूरी है।

सिक्के के दो पहलू होते हैं, इसी तरह सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना भी उतना ही जोखिम भरा हो सकता है, अगर हम इसका इस्तेमाल करना नहीं जानते। क्योंकि ऑनलाइन में हमें कई ऐसे धोखेबाज और मोलेस्टर मिल जाते हैं। जो दोस्त बनकर हमसे गलत काम करवाकर हमें फंसा सकते हैं। तो आइए जानते हैं इसके बारे में –

मुख्य जोखिम जो सोशल मीडिया के उपयोग के कारण हो सकते हैं –

1. आपकी गोपनीयता का नुकसान: सोशल मीडिया पर हम जो भी डेटा, सूचना, फोटो, वीडियो या फाइल अपलोड करते हैं, वह उसका हिस्सा बन जाता है, जो बाद में प्रशासकों की फाइलों का हिस्सा बन जाता है। बदले में अगर कभी कोई हैकर उस सिस्टम को हैक कर लेता है तो वह हमारा सारा डेटा आसानी से हासिल कर सकता है और उसका गलत इस्तेमाल भी कर सकता है। इसलिए कभी भी अपनी सारी जानकारी किसी भी सोशल मीडिया पर सेव न करें।

2. अनुपयुक्त (अवांछित) सामग्री तक पहुंच: चूंकि हमारे नेटवर्क पर हमारा कम नियंत्रण होता है। इंटरनेट पर जो जानकारी हम देखते हैं। उसमें हमारे सामने खराब और अनुपयुक्त सामग्री भी आ सकती है, भले ही हम न चाहें। वे किसी भी धर्म के हो सकते हैं जैसे हिंसक, यौन, या नसों से संबंधित कोई भी चीज आदि। इन चीजों को सोशल मीडिया पर अन्य लोगों द्वारा लिंक, नोटिस के रूप में प्रकाशित या साझा किया जा सकता है।

3. सहकर्मियों, परिचितों या अजनबियों द्वारा उत्पीड़न: यहां मुख्य दो मौलिक मामले देखे जा सकते हैं।

साइबरबुलिंग: उत्पीड़न जो इस नेटवर्क में किसी भी सहकर्मी या अजनबियों द्वारा धमकी, अपमान आदि द्वारा किया जाता है।

साइबर ग्रूमिंग: ये मुख्य रूप से नाबालिगों के साथ वयस्कों द्वारा किया जाता है ताकि वे उनसे उनकी तस्वीरें और जानकारी प्राप्त कर सकें, जिनका उपयोग बाद में उनके काम को प्राप्त करने के लिए किया जा सके ।

सोशल मीडिया के लाभ

आइए जानते हैं सोशल मीडिया के फायदों के बारे में:-

  • सोशल मीडिया का इस्तेमाल किसी चीज का विज्ञापन करने के लिए किया जा सकता है।
  • स्कूल की गतिविधियाँ भी आसानी से की जा सकती हैं, भले ही सभी सदस्य अलग-अलग प्रांतों से हों।
  • भले ही हमारे रिश्तेदार या दोस्त दूर रह रहे हों, हम सोशल मीडिया की मदद से उनसे आसानी से संपर्क कर सकते हैं और वह भी बहुत कम खर्च में।
  • यहां तक ​​कि हम दूसरे शहरों, राज्यों या देशों में स्थित लोगों से भी बातचीत कर सकते हैं।
  • हम विभिन्न फाइलों (जैसे फोटोग्राफ, दस्तावेज इत्यादि) आसानी से भेज और प्राप्त कर सकते हैं।
  • नए दोस्त बना सकते हैं जो एक अलग संस्कृति से हैं।
  • यह हमें वास्तविक समय में बातचीत करने में मदद करता है।
  • आजकल राजनीतिक दल सोशल मीडिया की मदद से अपने ऑनलाइन अभियान चला रहे हैं।
  • यहां हम चर्चा मंच बना सकते हैं और एक दूसरे के साथ बातचीत कर सकते हैं।
  • यह हमें सहयोगात्मक अधिगम करने में सहायता करता है।
  • यह वाणिज्यिक नेटवर्क को अपने उत्पादों को लोगों तक पहुंचाने में मदद करता है।
  • इससे पुलिस को भी अपनी जांच सुचारू रूप से करने में मदद मिलती है।

सोशल मीडिया के नुकसान

आइए अब जानते हैं सोशल मीडिया के नुकसान के बारे में:-

  • गोपनीयता सोशल मीडिया का एक बड़ा मुद्दा है।
  • यहां कोई भी अनजान और खतरनाक व्यक्ति आपकी सारी निजी जानकारी हासिल कर सकता है और जिसका वह बाद में गलत इस्तेमाल भी कर सकता है।
  • इसके इस्तेमाल से आप अपने आप को अपने परिवार और दोस्तों से अलग करने लगते हैं क्योंकि आप अपना काफी समय ऑनलाइन बिताते हैं।
  • सोशल मीडिया में प्रवेश करने के लिए, आप अपनी उम्र को गलत तरीके से प्रस्तुत भी कर सकते हैं ताकि आप अनजाने में खुद को ऑनलाइन मोलेस्टर के करीब ला सकें। क्योंकि इस छोटी सी उम्र में आपके पास उतनी समझ नहीं होती है और वो लोग उनका गलत इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • फेक अकाउंट बनने की संभावना अधिक बढ़ जाती है।
  • यह अनजाने में आपको अपनी ओर खींचता रहता है और बाद में आप इसके गुलाम बन जाते हैं।
  • इससे रियल रिलेशन को काफी नुकसान होता है।
  • कंप्यूटर और गैजेट्स के ज्यादा इस्तेमाल से भी आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

सोशल मीडिया का क्या है भविष्य

चूंकि हम तकनीकी दुनिया में रह रहे हैं जहां हम जो भी चीजें इस्तेमाल करते हैं वह तकनीक से भरी होती है। इसलिए सोशल मीडिया का भविष्य भी बहुत उज्ज्वल है। पिछले कुछ वर्षों में इसका उपयोग काफी बढ़ गया है। आज लोग अपने पड़ोसियों के बारे में कम लेकिन दूसरों के पड़ोसियों के बारे में ज्यादा जानते हैं।

देखा जाए तो यह सोशल मीडिया और कुछ नहीं बल्कि वर्चुअल वर्ल्ड में हो रहा कम्युनिकेशन है। जहां हमारे लगभग कई दोस्त हैं, वहां समुदाय आदि हैं। धीरे-धीरे सब कुछ आभासी दुनिया की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में वह दिन दूर नहीं जब हमारी सारी चीजें सोशल मीडिया पर उपलब्ध होंगी।

सोशल मीडिया का आविष्कार

20वीं सदी में देश और दुनिया में कई बदलाव होने लगे। इस काल में विज्ञान और प्रौद्योगिकी का बहुत तेजी से विकास होने लगा।

1940 में, दुनिया का पहला सुपर कंप्यूटर विकसित किया गया था। अब वैज्ञानिक का सबसे बड़ा काम सभी कंप्यूटरों में नेटवर्क तैयार करना था। इसका मतलब था कि एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से जोड़ा जाना था।

इंटरनेट की शुरुआत साल 1960 में हुई थी। इस नेटवर्क का नाम कैम्पसर्व था। धीरे-धीरे इंटरनेट और भी बेहतर हो गया।

1980 तक घरों में कंप्यूटर का इस्तेमाल तेज होता जा रहा था। इसी तरह सोशल मीडिया की भी मांग बढ़ती जा रही थी।

1979 में यूज़नेट ने लोगों के लिए एक वर्चुअल सोशल नेटवर्क संचालित किया।

दुनिया में पहली सोशल मीडिया साइट सिक्स डिग्री थी, जिसे 1997 में विकसित किया गया था। इसी तरह, 2000 में, लिंकलाइन और माइस्पेस सोशल मीडिया के रूप में दिखाई दिए और फिर 2005 में, यूट्यूब और फेसबुक, ट्विटर 2006 में लोकप्रिय हो गए।

ऐसा करते हुए, आज बहुत सारे सोशल मीडिया नेटवर्क हैं।

सोशल मीडिया के बारे में ये दिलचस्प बातें जानते हैं आप!

1940 में पहले सुपर कंप्यूटर के आविष्कार के बाद, पहला सोशल नेटवर्क सिक्स डिग्री था, जिसे 1997 में एंड्रयू विनरिच द्वारा लॉन्च किया गया था। इसके जरिए पहले ऑनलाइन फोटो अपलोड कर एक-दूसरे से जुड़ने की सुविधा दी गई। इस समय पूरी दुनिया में करीब 3 अरब सोशल मीडिया यूजर्स हैं।

ट्विटर की बात करें तो हर दिन करीब 50 करोड़ ट्वीट किए जाते हैं। यानी हर सेकेंड में 6,000 ट्वीट किए जाते हैं।

कैम्ब्रिज में मार्क जुकरबर्ग द्वारा बनाया गया फेसबुक आज दुनिया में किसी भी अन्य सोशल मीडिया साइट का सबसे लोकप्रिय और सबसे अधिक फॉलोवर है।

सर्वे के मुताबिक YouTube पर हर मिनट 300 से ज्यादा वीडियो कंटेंट अपलोड किए जाते हैं। औसतन, हर कोई 40 मिनट का YouTube वीडियो देखता है।

निष्कर्ष

हमे उम्मीद है इस लेख सोशल मीडिया क्या है? (Social Media Kya Hai)” के द्वारा आपको सोशल मीडिया के बारे में लगभग पूरी जानकारी मिल गई है। सोशल मीडिया एक बहुत अच्छा प्लेटफॉर्म है, जिसके माध्यम से हम वहां अपनी सभी गतिविधियों को साझा कर सकते हैं और एक दूसरे के बीच संबंध स्थापित कर सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा साझा की गई यह जानकारी “सोशल मीडिया क्या है? (Social Media Kya Hai), इसके प्रकार, फायदे और नुकसान आपको पसंद आया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *