Surya Grahan 2022: कब और कहां दिखेगा साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण? जानें, सूतक काल

Surya Grahan Kab Hai 2022: सूर्य ग्रहण में जब चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को ढक लेता है तो इस दौरान सूर्य की किरणें पृथ्वी पर नहीं पहुंच पाती हैं। ऐसा माना जाता है कि जब भी कोई सूर्य ग्रहण होता है तो उसका प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ता है, लेकिन साल का पहला सूर्य ग्रहण आंशिक है। आइए जानते हैं कि इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव कहां, किस राशि पर और कितने समय तक रहेगा।

Surya Grahan Kab Hai 2022: सूर्य और चंद्र ग्रहण की घटना साल में कई बार होती हैं। सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण खगोलीय घटनाएँ हैं। साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण अप्रैल के महीने में लगने जा रहा है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण को अशुभ माना जाता है। सूर्य ग्रहण में जब चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य (Sun) को ढक लेता है तो इस दौरान पृथ्वी पर सूर्य की किरणें नहीं पहुंच पाती हैं।

ऐसा माना जाता है कि जब भी कोई सूर्य ग्रहण होता है तो उसका प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ता है, लेकिन साल का पहला सूर्य ग्रहण आंशिक है। आइए जानते हैं कि इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव कहां, किस राशि पर और कितने समय तक रहेगा।

कहाँ दिखाई देगा 2022 का सूर्य ग्रहण ?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को पड़ रहा है। वृष राशि में इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव आंशिक रहेगा। यह सूर्य ग्रहण दक्षिण और पश्चिम दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, अटलांटिका और अंटार्कटिका महासागर जैसे क्षेत्रों में दिखाई देगा। चूंकि पहला सूर्य ग्रहण आंशिक है, इसलिए भारत पर इसका प्रभाव नहीं रहेगा। इस कारण सूतक के नियमों का पालन नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि जब पूर्ण ग्रहण होता है तो सूतक के नियमों का पालन किया जाता है।

सूर्य ग्रहण कब तक लगेगा?

भारतीय समय अनुसार 30 अप्रैल 2022 शनिवार को पहला (solar eclipse) सूर्य ग्रहण रात 12:15 बजे शुरू होकर सुबह 4:07 बजे खत्म होगा।

सूतक की स्थिति कैसे बनती है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण के आंशिक होने पर सूतक काल के नियमों का पालन करना अनिवार्य नहीं है, लेकिन ग्रहण पूर्ण होने पर सूतक प्रभावी माना जाता है। इसमें कई नियम हैं जिनका पालन करना अनिवार्य है।

कब लगेगा साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण?

साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर मंगलवार को लगेगा। इसका समय शांम 4:29:10 से शुरू होकर 5:42:01 बजे खत्म होगा। यह ग्रहण अफ्रीका महाद्वीप के उत्तरपूर्वी भाग, यूरोप, एशिया के दक्षिण-पश्चिमी भाग और अटलांटिक में दिखाई देगा। साथ ही यह सूर्य ग्रहण भारत के कुछ स्थानों पर देखा जा सकता है। इसलिए भारत में इस सूर्य ग्रहण का धार्मिक प्रभाव और सूतक मान्य होगा।

यह भी पढ़ें – Chandra Grahan 2022: मई में लगने जा रहा है साल का पहला चंद्रग्रहण, जानिए तारीख, समय

यह भी पढ़ें – Shani Amavasya 2022: सूर्य ग्रहण व शनि अमावस्या एक साथ, संकट से बचने के लिए अवश्य करें ये उपाय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update