Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

Global Statistics

All countries
261,926,083
Confirmed
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
234,821,824
Recovered
Updated on November 29, 2021 7:22 PM
All countries
5,220,328
Deaths
Updated on November 29, 2021 7:22 PM

पाकिस्तान में पहाड़ों से घिरी हुई है यह रहस्यमयी जनजाति, जिसके बारे में जानकर दुनिया भी है हैरान

Today Facts In Hindi: पाकिस्तान में कई ऐसे रहस्य हैं जो आज भी अनसुलझे हैं। एक रहस्यमयी जनजाति पड़ोसी देश में दशकों से रह रही है। हिंदूकुश पर्वतों से घिरे स्थान में कलाश नाम का एक समुदाय रहता है। इस समुदाय के लोगों का मानना ​​है कि पहाड़ों से घिरे होने के कारण उनकी संस्कृति सुरक्षित है। पाकिस्तान में पहाड़ों के बीच रहने वाली कलाश जनजाति की परंपराएं हिंदुओं की प्राचीन मान्यताओं से जुड़ी मानी जाती हैं। लेकिन वे कब शुरू हुए यह अभी भी एक रहस्य है।

अफगानिस्तान की सीमा से लगे पाकिस्तानी इलाके में रहने वाली कलश जनजाति की गिनती वहां के सबसे कम आबादी वाले अल्पसंख्यकों में होती है। हिंदू कुश पर्वतों के बीच रहने वाले इस समुदाय के लोग बाहरी दुनिया से पूरी तरह अलग-थलग रहते हैं। यहां के लोग पहाड़ों को काफी पहचान देते हैं। यहां पहाड़ की ऐतिहासिक मान्यता भी है। सिकंदर ने इस क्षेत्र में जीत हासिल की थी, जिसके बाद इसे कौकासोश इन्दिकौश के नाम से जाना जाने लगा। ग्रीक में इसका मतलब हिंदुस्तानी पर्वत है। इसी कारण कलाश समुदाय को सिकंदर महान का वंशज भी कहा जाता है।

पाकिस्तान की रहस्यमयी जनजाति

पुरुष और महिलाएं एक साथ शराब पीते हैं

साल 2018 में पाकिस्तान में जनगणना के दौरान कलश समुदाय को एक अलग कबीले में जगह दी गई थी। इस जनगणना के अनुसार इस समुदाय में 3800 लोग हैं। ये लोग मिट्टी, लकड़ी और मिट्टी के बने छोटे-छोटे घरों में रहते हैं। यहां किसी भी त्योहार के दौरान इस समुदाय की महिलाएं और पुरुष एक साथ बैठकर शराब पीते हैं। इस अवसर पर लोग बांसुरी और ढोल बजाते हैं और नाचते-गाते हैं। वे अफगानिस्तान और पाकिस्तान की बहुसंख्यक आबादी के डर से इन अवसरों पर पारंपरिक हथियार और अत्याधुनिक बंदूकें भी रखते हैं।

पाकिस्तान की रहस्यमयी जनजाति

घर चलाने की जिम्मेदारी महिलाओं पर होती है

कलश जनजाति में घर चलाने की जिम्मेदारी महिलाओं की होती है। यहां कमाई का सबसे ज्यादा काम महिलाएं करती हैं। भेड़ चराने का काम सिर्फ महिलाएं ही करती हैं। यहां की महिलाएं घर में ही पर्स और रंग-बिरंगी मालाएं बनाती हैं। पुरुष अपना बनाया सामान बेचते हैं। यहां की महिलाओं को मेकअप का बहुत शौक होता है। महिलाएं अपने सिर पर एक विशेष टोपी और गले में पत्थरों से बनी एक माला पहनती हैं।

पाकिस्तान की रहस्यमयी जनजाति

महिलाओं को है आजादी

यहां साल में तीन त्योहार मनाए जाते हैं। इस मौके पर लड़के और लड़कियां आपस में मिलते हैं। इस दौरान कई लोग आपस में शादी कर लेते हैं। अगर यहां की कोई महिला किसी दूसरे पुरुष को पसंद करती है तो वह उसके साथ रह सकती है। महिलाओं और लड़कियों को अपना पसंदीदा साथी चुनने की पूरी आजादी है। इसलिए शेष पाकिस्तान में महिलाओं के लिए कोई स्वतंत्रता नहीं है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कलश जनजाति की लड़की त्योहार के दौरान अपने पसंदीदा लड़के के साथ जाती है। और एक हफ्ते या एक महीने के बाद वापस आती है, इसलिए यह माना जाता है कि लड़की उस लड़के से शादी करने के लिए राजी हो गई है और फिर दोनों की शादी हो जाती है। ऐसा होता है।

Today Facts In Hindi: पाकिस्तान में पहाड़ों से घिरी हुई है यह रहस्यमयी जनजाति

महिलाओं पर अभी भी हैं कई पाबंदियां

इस समुदाय की महिलाओं को पीरियड्स के दौरान घर में नहीं रहने दिया जाता है। इस दौरान उन्हें कम्युनिटी होम में रहना है। यहां सामुदायिक घर सभी सुविधाओं के साथ अच्छे हैं। पांच दिनों के बाद महिलाएं स्नान करके घर वापस आती हैं। ऐसा माना जाता है कि पीरियड्स के दौरान अगर वह घर में रहेगा या परिवार को छूएगा तो भगवान नाराज हो जाएंगे। इससे बाढ़ या अकाल पड़ सकता है।

((Today Facts) (Today Facts In Hindi)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

RECENT UPDATED