Uttar Pradesh: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के आगरा जिले के कागारौल की वाल्मीकि बस्ती में बारिश के दौरान मोहल्ले के रहने वाले हाकिम सिंह के मकान की निर्माणाधीन छत पत्थर टूट जाने से ढह गई। परिवार के बच्चों सहित नौ सदस्य मलबे में दब गए। ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने बाहर निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया। जहां अस्पताल में इलाज के दौरान तीन बच्चों की मौत हो गई। छह लोग इस हादसे में घायल भी हैं। अस्पताल में उनका उपचार कराया जा रहा है।

कागारौल स्थित बाल्मीकि बस्ती निवासी हाकिम सिंह का मकान इन दिनों बन रहा था। आधा काम एक बड़े कमरे की छत का हो चुका था। गर्डर और पत्थर रखने के बाद इसमें मिट्टी डाल दी गई थी। वहीं पत्थर का बीम भी एक गर्डर के सपोर्ट के लिए नीचे लगाया गया था।

मंगलवार शाम को तेज बारिश होने लगी। बारिश तकरीबन आधा घंटे तक हुई। जिस वजह से छत पर पानी भर गया। निर्माणाधीन छत पर दबाव बढ़ गया। तकरीबन रात आठ बजे पत्थर टूट गया। जिससे नीचे मलबा गिर गया। उस समय घर में ही परिवार के बच्चों सहित नौ लोग मौजूद थे। सभी छत के मलबे और पत्थरों के नीचे दब गए।

क्षेत्र में हादसे के बाद अफरातफरी मच गई। जिसके बाद ग्रामीण जुट गए। ग्रामीणों ने मलबा हटाकर बाहर निकालने के प्रयास शुरू कर दिए। सीओ अछनेरा महेश कुमार के अनुसार मौके पर वह पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए। किसी तरह मलबा ग्रामीणों की मदद से हटाया गया।

रिवार के सदस्यों को बाहर निकाला। पुलिस के वाहनों से सभी को एसएन इमरजेंसी ले गए। हाकिम सिंह की पोती 8 वर्षीय रोशनी, 3 साल की प्राची और पोता 5 वर्षीय मयंक की उपचार के दौरान मौत हो गई।

हाकिम सिंह की बेटी डौली, बेटे जीतू, अनिल, उनकी 2 साल की बेटी अनुष्का, 5 साल की दिव्यांशी, 8 साल की खुशी पुत्री राजेश घायल हो गईं। हॉस्पिटल में में उपचार कराया जा रहा है। एसएसपी मुनिराज जी भी घटना की जानकारी पर पहुंच गए। हर संभव मदद का आश्वासन उन्होंने परिवार को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *