Vaishakh Month 2022: वैशाख माह में करें यह उपाय, मिलेगी भगवान विष्णु की असीम कृपा

Vaishakh Month 2022: वैशाख जैसा कोई महीना नहीं, सत्ययुग जैसा कोई युग नहीं, वेदों जैसा कोई शास्त्र नहीं और गंगाजी जैसा कोई तीर्थ नहीं। विशाखा नक्षत्र से सम्बन्ध होने के कारण इसका नाम वैशाख पड़ा। इस महीने में भगवान विष्णु, भोलेनाथ, परशुराम और देवी की विशेष पूजा की जाती है। शास्त्रों के अनुसार इस महीने में किए गए पुण्य कर्मों का फल कई जन्मों तक मिलता है।

ब्रह्म मुहूर्त में स्नान

ऐसा कोई दूसरा महीना नहीं है जो भगवान विष्णु को प्रसन्न करता हो, जो वैशाख महीने में सूर्योदय से पहले स्नान करता है, भगवान विष्णु उससे हमेशा संतुष्ट रहते हैं। वैशाख मास (Vaishakh Month) में सब तीर्थ, देवता अर्थार्त सामन्य नदी तालाबों में भी सदैव स्थित रहते हैं। इस महीने में किसी पवित्र नदी या सरोवर में व्रत, पूजा, दान और स्नान करने से धन और पुण्य की प्राप्ति होती है।

उगते हुए सूर्य को अर्घ्य

पुराणों के अनुसार, भगवान विष्णु को पूजा, तपस्या, यज्ञ आदि से उतनी प्रसन्नता नहीं होती। जितना सुबह स्नान करने और जगत को प्रकाश देने वाले भगवान सूर्य को अर्घ्य देने से से होती है । इसलिए पूर्व जन्म और इस जन्म के सभी पापों से मुक्ति और भगवान सूर्य नारायण की कृपा पाने के लिए प्रत्येक मनुष्य को नियमित रूप से सूर्य मंत्र का जाप करते हुए सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए।

इन मंत्रों का जाप करें

वैशाख के महीने में लाभ पाने के लिए विभिन्न मंत्रों का जाप करना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, आर्थिक लाभ हेतु ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीवासुदेवाय नमः का जाप करें। संतान प्राप्ति हेतु ॐ क्लीं कृष्णाय नमः और सर्व कल्याण के लिए ॐ नमो नारायणाय का जाप करें।

दान करने के लिए सबसे अच्छा

वैशाख मास में अन्न, जल, दूध, फल, चावल, जूते और छाता का दान करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। गरीबों, साधुओं, महात्माओं और ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए और उन्हे जरूरत की चीजों का दान करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस महीने में दान करने से गरीबी से मुक्ति मिलती है। ऐसा माना जाता है कि सभी दानों से जितना पुण्य मिलता है और सभी तीर्थों में जाने से जो फल मिलता है, वही पुण्य और फल वैशाख के महीने में जलदान से ही प्राप्त हो सकता है। इसलिए इस महीने में प्याऊ खुलवाना श्रेष्ठ माना गया है।

पेड़ लगाना शुभ

इस महीने में आम, नीम, पीपल, बरगद आदि छायादार पेड़ लगाने से जीवन के कष्ट दूर होते हैं। इसके अलावा पशु-पक्षियों को चारा, अनाज और पानी की व्यवस्था करने से ग्रह दोष दूर होते हैं।

यह भी पढ़ें – Chandra Grahan 2022: मई में लगने जा रहा है साल का पहला चंद्रग्रहण, जानिए तारीख, समय

यह भी पढ़ें – Surya Grahan 2022: कब और कहां दिखेगा साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण? जानें, सूतक काल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Latest Update

Latest Update