3 मई को अक्षय तृतीया, 50 साल बाद इस दिन बन रहा है ग्रहों का विशेष योग

अक्षय तृतीया पर सोने के आभूषण खरीदने की विशेष परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदता है तो उसके जीवन में मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है। साथ ही व्यक्ति का जीवन सुख और वैभव के साथ बीतता है।

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया का पर्व मनाया जाता है। इस बार यह पर्व 03 मई को है। अक्षय तृतीया को अखा तीज के नाम से भी जाना जाता है।

अक्षय का अर्थ है ‘जिसका कभी भी क्षय न हो यानी कभी नाश न हो’ । धार्मिक मान्यताओं अनुसार ऐसा माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन किया गया शुभ कार्य, दान-पुण्य, स्नान,पूजा व तप करने से अक्षय फल की प्राप्ति होता है।

अक्षय तृतीया एक अबूझ मुहूर्त है यानी इस तिथि को बिना मुहूर्त देखे कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है।